जयंत चौधरी के बयान कि मैं अभी रास्ते में हूं, पर कुमार विश्वास ने ठेठ अंदाज में ली चुटकी, पढ़िए क्या कहा?

 

कवि कुमार विश्वास ने भी इस वीडियो को देखा उसके बाद उन्होंने चुटकीले अंदाज में इस पर कमेंट किया।
यूपी के लखीमपुर खीरी में किसानों की मौत पर रविवार को पूरे दिन बवाल हुआ। सोमवार को भी इस घटना को लेकर विपक्षी दल एक साथ सड़क पर उतर आए और सरकार और उसकी कार्यप्रणाली पर सवाल उठाने लगे।

नई दिल्ली। यूपी के लखीमपुर खीरी में किसानों की मौत पर रविवार को पूरे दिन बवाल हुआ। सोमवार को भी इस घटना को लेकर विपक्षी दल एक साथ सड़क पर उतर आए और सरकार और उसकी कार्यप्रणाली पर सवाल उठाने लगे। सपा, बसपा, कांग्रेस, आम आदमी पार्टी, राष्ट्रीय लोक दल और अन्य पार्टियों की ओर से बयानबाजी होने लगी। सपा प्रमुख और प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव तो पार्टी समर्थकों के साथ सड़क पर उतर आए और विरोध करने लगे। इस बीच राष्ट्रीय लोक दल और किसान नेता जयंत चौधरी ने भी लखीमपुर खीरी जाने का रास्ता पकड़ा, उन्होंने अपने ट्विटर हैंडल से एक ट्वीट किया कि मैं अभी रास्ते में हूं, लखीमपुर खीरी पहुंच रहा हूं। उन्होंने टीम आरएलडी के ट्विटर हैंडल से ट्वीट किए गए एक वीडियो को रिट्वीट करते हुए ये लिखा था। इसमें लिखा गया है कि जयंत चौधरी को किसानों के पास जाने से कौन रोक देगा।

दरअसल उस ट्वीट में ये दिखाया जा रहा है कि जयंत चौधरी किस तरह से पुलिस से बचते हुए लखीमपुर जाने की कोशिश कर रहे हैं। वीडियो में दिख रहा है कि उन्होंने अपना पूरा चेहरा गमछे से ढका हुआ है और वो पैदल ही जा रहे हैं, वीडियो में सामने एक पुलिसकर्मी भी दिखाई दे रहा है जो वाहनों की जांच कर रहा है। पुलिसकर्मी के पास पहुंचने से पहले ही वो अपने गमछे को ठीक करते हैं और आगे बढ़ जाते हैं। वीडियो बनाने वाले ने जयंत को फोकस करते हुए ये 20 सेकंड का वीडियो बनाया और उसे पार्टी के हैंडल से ट्वीट किया गया। कवि कुमार विश्वास ने भी इस वीडियो को देखा उसके बाद उन्होंने चुटकीले अंदाज में इस पर कमेंट किया। उन्होंने लिखा कि मका यो ठीक सै

कुमार के इस ट्वीट का मतलब है कि मैंने कहा ठीक है, मेरे चौधरी साहब का लड़का तेज हो गया। इससे पहले भी कुमार विश्वास ने वरूण गांधी के एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा था कि आंदोलन के नेताओं व सरकार के प्रमुख लोगों से अनुरोध है कि बेहद शांत मन से स्थिति सँभालें।पूरा देश दुखी है। किसानों-नागरिकों की मृत्यु का दुःख गहरा है अतः एक दूसरे के साथ बेहद संवेदनशीलता व सच के साथ पेश आएँ।देश के दुश्मनों को अवसर न दें। अब आगे कुछ ऐसा न हो जिससे तल्ख़ी बढ़े। इसके बाद उन्होंने जयंत चौधरी के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए मजाकिया लहजे में ये दो लाइनें लिखी।