गैंगेस्टर अमीर के बीमार होने पर पुलिसकर्मी ने रक्तदान कर बचाई जान, जानिए कहां का है मामला


एसपी सिटी डा. जगदीश चंद्र ने बताया कि पुलिस कर्मचारी ने ड्यूटी के साथ ही इंसानियत का भी फर्ज निभाया
जेल अधीक्षक एसके सुखीजा ने बताया कि आरोपित अमीर स्वस्थ नहीं था। खून की कमी के चलते उसे अस्पताल में भर्ती कर इलाज कराने को कहा गया। ऐसे में साथ आए कोतवाली के पुलिस कर्मचारी मुन्ना सिंह ने उसे बेस अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उसका इलाज शुरू किया गया।

 हल्द्वानी। मानवता के हनन के आरोप आए दिन खाकी पर लगते रहते हैं तो वहीं जरूरत पडऩे पर खाकी वाले इंसानियत का फर्ज निभाने से भी नहीं चूकते हैं। गैंगेस्टर के आरोपित अमीर को कोर्ट में पेश करने के बाद जेल भेजा गया। तो वहीं जेल के मेडिकल स्टाफ ने खून की कमी बताकर उसे अस्पताल ले जाने की सलाह दी। अस्पताल में चिकित्सकों ने फौरन खून चढ़ाने के लिए कहा। ऐसे में कोई तैयार नहीं हुआ तो गैंगेस्टर आरोपित के साथ गए खाकी वर्दी धारी कांस्टेबल मुन्ना सिंह ने अपना खून देने की पेशकश की।

हल्द्वानी के बरसाती रोड, इंदिरानगर निवासी 27 वर्षीय अमीर पुत्र जाकिर पर मारपीट के मामले में गैंगेस्टर का मुकदमा दर्ज है। लंबे समय से फरार आरोपित को पुलिस ने बीते रविवार 10 अक्टूबर को घर से ही गिरफ्तार कर लिया। न्यायालय में पेश करने के बाद उसे न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेज दिया गया। जेल अधीक्षक एसके सुखीजा ने बताया कि आरोपित अमीर स्वस्थ नहीं था। खून की कमी के चलते उसे अस्पताल में भर्ती कर इलाज कराने को कहा गया। ऐसे में साथ आए कोतवाली के पुलिस कर्मचारी मुन्ना सिंह ने उसे बेस अस्पताल में भर्ती कराया। जहां उसका इलाज शुरू किया गया।शरीर में खून की कमी के चलते फौरन ब्लड का इंतजाम करने को कहा गया। जिसके लिए खाकी वाले मनोज सिंह सामने आए तो बाद में अमीर के दोस्त सिकंदर शाह व एक अन्य स्वजन ने भी खून दिया। तीन युनिट रक्त चढ़ाने के बाद आरोपित की तबीयत में सुधार आया है। फिलहाल उसे बेस अस्पताल में भी मेडिकल सुपरविजन में रखा गया है। जहां पूरी तरह स्वस्थ होने के बाद ही उसे जेल में शिफ्ट किया जाएगा। एसपी सिटी डा. जगदीश चंद्र ने बताया कि पुलिस कर्मचारी ने ड्यूटी के साथ ही इंसानियत का भी फर्ज निभाया है।