देश में घटी नए मामलों की संख्या, केरल में अभी भी एक लाख से ज्यादा एक्टिव केस

 

203 दिनों में सबसे कम सक्रिय मामले
केरल में कोरोना संक्रमण के सक्रिय मामलों का आंकड़ा अभी भी एक लाख से अधिक बना हुआ है और वर्तमान में 125030 सक्रिय मामले हैं। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के 36744 और तमिलनाडु में 16749 सक्रिय मामले हैं।

नई दिल्ली, एएनआइ। पिछले 24 घंटे में 24,770 कोरोना मरीज ठीक होने के बाद भारत में सक्रिय मामलों की संख्या घटकर 2,46,687 हो गई है, जो 203 दिनों में सबसे कम है। स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय द्वारा जारी आधिकारिक विज्ञप्ति के अनुसार, पिछले 24 घंटों में कोरोना संक्रमण के 18,833 नए मामले सामने आए हैं।

24,770 नई रिकवरी के साथ अब तक कुल 3,31,75,656 लोग कोरोना से ठीक हुए हैं। देश में इस वक्त रिकवरी दर 97.94 फीसद है, जो मार्च 2020 के बाद सबसे अधिक है। भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के अनुसार, पांच अक्टूबर तक कुल 57,68,03,867 नमूनों का परीक्षण किया गया, जिसमें कल परीक्षण किए गए 14,09,825 नमूने भी शामिल हैं।

केरल में अभी भी एक लाख से ऊपर सक्रिय मामले

वहीं, केरल में संक्रमण के सक्रिय मामलों का आंकड़ा अभी भी एक लाख से अधिक बना हुआ है और वर्तमान में 1,25,030 सक्रिय मामले हैं। महाराष्ट्र में 36,744 और तमिलनाडु में 16,749 सक्रिय मामले हैं।

अब तक कोरोना वैक्सीन की 92.17 करोड़ डोज दी गईं

राष्ट्रव्यापी टीकाकरण अभियान के तहत अब तक 92.17 करोड़ कोविड वैक्सीन की खुराक दी जा चुकी है। 21 जून से शुरू हुए COVID-19 टीकाकरण के सार्वभौमिकरण के नए चरण के तहत, भारत सरकार देश में वैक्सीन निर्माताओं द्वारा उत्पादित वैक्सीन की 75 फीसद खुराक राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को खरीद और आपूर्ति (मुफ्त) कर रही है।

70 फीसद को मिली वैक्सीन की पहली डोज

चार अक्टूबर को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने जानकारी दी कि 70 फीसद आबादी को कोविड-19 वैक्सीन की पहली खुराक दी जा चुकी है। भारत ने इस साल 16 जनवरी को चरणबद्ध तरीके से दुनिया का सबसे बड़ा COVID-19 टीकाकरण अभियान शुरू किया, जिसमें स्वास्थ्य कर्मियों (HCW) को पहले टीका लगाया गया। फ्रंटलाइन वर्कर्स (FLWs) का टीकाकरण दो फरवरी को शुरू हुआ। COVID-19 टीकाकरण का अगला चरण एक मार्च से शुरू हुआ, जिसमें 60 वर्ष से अधिक आयु के लोगों को टीका लगाया गया। भारत ने एक अप्रैल से 45 वर्ष से अधिक आयु के सभी लोगों के लिए टीकाकरण शुरू किया, जबकि 18-44 आयु वर्ग के लोगों के लिए टीकाकरण एक मई से शुरू हुआ।