अंतरराष्ट्रीय जूडो खिलाड़ी की साले ने गोली मारकर की हत्या, पुलिस ने किया गिरफ्तार

 

विक्रम ने पांच दिनों से अपनी सर्विस रिवाल्वर मालखाने में जमा नहीं की थी।
करनाल में तैनात रोहतक निवासी सब इंस्पेक्टर वीरेन्द्र राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में हिस्सा ले चुके थे। उनका चार करोड़ रुपये को लेकर साले से विवाद था जिसमें विवाद के बाद हत्या हो गई। इस मामले में आरोपित दिल्ली पुलिस का सिपाही है।

नई दिल्ली ,राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में जूडो में देश का प्रतिनिधित्व कर चुके हरियाणा पुलिस के सब इंस्पेक्टर वीरेन्द्र की उसके साले ने रविवार सुबह गोली मारकर हत्या कर दी। आरोपित विक्रम दिल्ली पुलिस में सिपाही है। सफदरजंग एनक्लेव थाना पुलिस ने मामला दर्ज कर उसे गिरफ्तार कर लिया है। आरोपित की सर्विस रिवाल्वर भी जब्त कर ली गई है।

रविवार सुबह की है घटना

पुलिस उपायुक्त गौरव शर्मा के अनुसार, वीरेन्द्र हरियाणा के रोहतक का रहने वाला था। वर्तमान में वह करनाल में तैनात था, जबकि आरोपित विक्रम दिल्ली पुलिस में कांस्टेबल है और ग्रेटर कैलाश थाने में तैनात है। विक्रम दिल्ली पुलिस से पहले भारतीय सेना में था। बाद में उसने दिल्ली पुलिस में नौकरी शुरू की। सफदरजंग एनक्लेव थाना पुलिस को रविवार सुबह सूचना मिली थी कि एक व्यक्ति की गोली लगने से मौत हो गई है।

गाली देने के बाद शुरू हुआ झगड़ा

पुलिस मौके पर पहुंची तो वहां वीरेन्द्र का शव मिला और विक्रम भी घर में ही मौजूद था। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा और वीरेन्द्र के घरवालों को उसकी मौत की सूचना दी। पुलिस ने मौके से ही विक्रम को गिरफ्तार कर लिया। विक्रम ने पुलिस को दिए बयान में बताया है कि दोनों के बीच रुपये को लेकर विवाद था। रविवार सुबह उसके जीजा ने उसे गाली दी थी, जिसके बाद झगड़ा शुरू हुआ था। इसी दौरान गुस्से में उसने सर्विस रिवाल्वर से अपने जीजा को गोली मार दी, जिससे उनकी मौत हो गई। हत्या के दौरान विक्रम की पत्नी और बेटा घर में ही मौजूद थे।

चार करोड़ रुपये का था विवाद

वीरेन्द्र के भाई सुरेन्द्र ने बताया कि जब विक्रम यह घर खरीद रहा था तो वीरेन्द्र ने उसे करीब दो करोड़ रुपये दिए थे। इसके अलावा भी उसने कई बार विक्रम को रुपये दिए थे। वीरेन्द्र बार-बार विक्रम से रुपये वापस करने को कह रहा था। वह दिल्ली भी विक्रम के बुलाने पर रुपये लेने के लिए ही आया था।

पांच दिन से सर्विस रिवाल्वर नहीं की थी जमा

पुलिस जांच में सामने आया है कि विक्रम ने पांच दिनों से अपनी सर्विस रिवाल्वर मालखाने में जमा नहीं की थी। ऐसे में पुलिस आशंका जता रही है कि विक्रम ने साजिश के तहत ही अपने जीजा को दिल्ली बुलाया था और उनकी हत्या कर दी।