अखिलेश की रिहाई को लेकर सपाइयों का प्रदेशव्यापी प्रदर्शन, तस्वीरों में देखें

 


कानपुर में प्रदर्शन करते सपाइयों की फोटो।
 केंद्रीय गृह राज्यमंत्री अजय मिश्र टेनी के बयान से नाराज प्रदर्शनकारी किसानों ने रविवार को मंत्री के गांव में आ रहे उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के शांतिपूर्वक विरोध की घोषणा की थी। रविवार को हजारों प्रदर्शनकारियों ने उन पर पथराव कर एक गाड़ी को आग लगा दी।

कानपुर।  लखीमपुर खीरी में आठ लोगों की मौत के बाद सूबे में तनाव की स्थिति है। सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष आैर पूर्व सीएम अखिलेश यादव को नजरबंद किए जाने के बाद से प्रदेश के अलग-अलग जिलों में सपाई प्रदर्शन कर रहे हैं। कानपुर शहर में सपा कार्यकर्ताओं के द्वारा ट्रेन रोके जाने की खबर पाकर तत्काल फोर्स तैनात कर दिया गया था। पुलिस के रोकने के बाद सपाइयों ने जीटी रोड पर जाम लगाने की कोशिश भी की। तभी सपा कार्यकर्ता पुलिस ने धक्का-मुक्की करने लगे। 

ये है पूरा मामला: कुछ समय पहले केंद्रीय गृह राज्यमंत्री और खीरी के सांसद अजय मिश्र 'टेनी' के एक बयान से नाराज प्रदर्शनकारी किसानों ने रविवार को मंत्री के गांव में आ रहे उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के शांतिपूर्वक विरोध की घोषणा की थी। रविवार को जैसे ही मंत्री समर्थकों की गाड़ियां उपमुख्यमंत्री को लेने निकलीं तो वहां हजारों प्रदर्शनकारियों ने उन पर पथराव कर एक गाड़ी को आग लगा दी। इसी बीच एक बेकाबू वाहन किसानों पर जा चढ़ा। इसमें चार किसानों की मौत हो गई। वहीं, किसानों के हमले में चार भाजपा समर्थक मारे गए। इसी घटना के बाद से सूबे की राजनीति में भी उबाल आ गया। मौके पर प्रियंका गांधी, अखिलेश यादव, शिवपाल यादव और संजय सिंह समेत तमाम विपक्षी नेता जुटने लगे। इतना ही नहीं किसानों की मौत की खबर पाकर राकेश टिकैत भी लखीमपुर खीरी के लिए निकल पड़े। सोमवार सुबह अखिलेश यादव घर के बाहर आगजनी होने के बाद जब वे धरने पर बैठे तो पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। इसके बाद सपा ने इंटरनेट मीडिया के माध्यम से कार्यकर्ताओं से अपील करते हुए कहा कि वे जहां भी हों धरने पर बैठ जाएं। इसके बाद एक-एक कर सभी जिलों में सपाइयाें ने प्रदर्शन शुरू कर दिया। 

उन्नाव : सपा जिलाध्यक्ष धर्मेंद्र सिंह, पूर्व मंत्री सुधीर रावत, पूर्व विधायक कृपाशंकर, बदलू खां आदि के नेतृत्व में सपा कार्यकर्ताओं ने शास्त्री प्रतिमा पार्क ओवर ब्रिज में धरना दिया। उसके बाद ओवर ब्रिज पर जाम लगा विरोध प्रदशर्न शुरू कर दिया। लगभग आधा घंटे बाद पुलिस ने जाम खुलवाया। वहां से आकर सपा कार्यकर्ता कलेक्ट्रेट गेट के सामने मुख्यमार्ग पर जाम लगा विरोध प्रदर्शन करने लगे। प्रदर्शनकारी राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को रिहा करने व प्रदेश सरकार को बर्खास्त करने की मांग कर रहे हैं। 

jagran

र्रुखाबाद: समाजवादी पार्टी के जिलाध्यक्ष नदीम अहमद फारुकी की अगुवाई में सपा कार्यकर्ता आवास विकास स्थित लोहिया प्रतिमा के नीचे धरने पर बैठ गए। सपाइयों की भीड़ देख वहां पुलिस फोर्स तैनात कर दी गई। सपाइयों ने प्रदेश सरकार को किसान विरोधी बताते हुए उसे बर्खास्त करने की मांग की। इस दौरान निवर्तमान महानगर अध्यक्ष विजय यादव, मंदीप सिंह, राघवदत्त मिश्रा आदि बड़ी तादात में मौजूद रहे।

jagran

इटावा: पूर्व जिलाध्यक्ष राजीव यादव के नेतृत्व में सपा कार्यकर्ता धरने पर बैठ और नारेबाजी करने लगे।  जिलाधिकारी कार्यालय के सामने सपा जिलाध्यक्ष गोपाल यादव की अगुवाई में धरना प्रदर्शन किया गया। सैफई में समाजवादी पार्टी के सैफई ब्लाक अध्यक्ष संतोष शाक्य एवं भारतीय किसान यूनियन इटावा के जिला संरक्षक चौधरी सुरेंद्र सिंह के संयुक्त नेतृत्व में लखीमपुर खीरी में हुई घटना को लेकर सैफई थाने का किया घेराव कर केंद्र व प्रदेश सरकार के खिलाफ की नारेबाजी की और बड़ी संख्या में लोग धरने पर बैठे। भरथना में भी सपा कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन किया।

jagran

 

कन्नौज: लखीमपुर में हुई घटना को लेकर जिले किसान संगठन व अन्य राजनीतिक पार्टियों में आक्रोश रहा। ब्लाक, तहसील व मुख्यालय स्तर पर प्रदर्शन किया गया। घटना की निंदा कर कार्रवाई की मांग की गई। वहीं, जिला मुख्यालय स्तर पर कलेक्ट्रेट परिसर में जिलाध्यक्ष कलीम खां के नेतृत्व में सपाइयों ने प्रदर्शन किया। इस दौरान कलेक्ट्रेट में जगह-जगह पुलिस बल तैनात रहा। सपाइयों ने डीएम कार्यालय के बाहर धरना दिया। अंदर जाने को लेकर झड़प भी हुई। घटना की निंदा कर राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को छोडऩे की मांग की। न छोडऩे तक धरना जारी रखने की चेतावनी दी। दोपहर तक धरने पर सपाई डटे रहे। वहीं, एडीएम गजेंद्र कुमार ने चेतावनी भी दी। वहीं, छिबरामऊ में सौरिख रोड पर तिराहे पर धरना देने से पहले 40 सपाइयों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया है। 

उरई : राजनीतिक दलों के बड़े नेताओं को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। जिसमें सपा के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव व कांग्रेस की प्रियंका गांधी शामिल हैं। उनके गिरफ्तार होते ही पूरे जिले में सपा कार्यकर्ताओं ने धरना प्रदर्शन कर जल्द ही पूर्व सीएम को छोडऩे की मांग की। साथ ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अधिकारियों को ज्ञापन सौंपकर मामले की निष्पक्ष जांच सीबीआइ से कराने व आरोपितों को कठोर सजा दिलाने की मांग रखी। 

हमीरपुर : मुख्यालय में समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने विरोध प्रदर्शन किया। एसपी कार्यालय के सामनेे बैठकर कर नारेबाजी की गई। इसके बाद डिप्टी कलेक्टर को ज्ञापन सौंप कर मृतक किसानों के एक स्वजन को सरकारी नौकरी दिलाने की मांग की। इसी लखीमपुर खीरी की घटना को लेकर राठ में सपा के कार्यकर्ताओं ने मुख्यमंत्री व केंद्रीय गृह राज्यमंत्री का पुतला फूंका। किसानों ने राठ से तहसील परिसर पहुंच की नारेबाजी। यहां पुलिस के साथ हुई नोकझोंक, एसडीएम को सौंपा ज्ञापन। वहीं राठ में किसान यूनियन के कार्यकर्ताओं ने भी प्रदर्शन कर एसडीएम को ज्ञापन सौंपा। वहीं मौदहा, सरीला, कुरारा, मुस्करा सहित अन्य स्थानों परविरोध प्रदर्शन नहीं हुआ। 

महोबा : अखिलेश यादव की गिरफ्तारी से नाराज सपाइयों ने जुलूस निकाला। राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन एसडीएम को दिया। इससे पूर्व आंबेडकर पार्क में धरना दिया और नारेबाजी की। इसी घटना को लेकर कांग्रेसियों ने कलेक्ट्रेट में धरना दिया और राज्यपाल को ज्ञापन भेजा। 

बांदा : बुंदेलखंड किसान यूनियन सहित कई किसान संगठनों, कांग्रेस, समाजवादी पार्टी, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी ने विरोध प्रदर्शन किया। अशोकलाट तिराहे पर प्रदर्शन के बाद कलेक्ट्रेट पहुंचकर राष्ट्रपति को संबोधित ज्ञापन दिया। इस बीच किसी अनहोनी को रोकने के लिए अशोकलाट और कलेक्ट्रेट तक भारी पुलिस फोर्स तैनात रही। अशोक लाट की तरफ आने वाले रास्तों पर बैरियर लगा दिए गए थे। कांग्रेस जिलाध्यक्ष प्रद्युम्न्न दुबे के नेतृत्व में कांग्रेसियों ने ज्ञापन सौंपा, जबकि सपा के पूर्व विधायक विशंभर सिंह यादव की अगुवाई में सपाइयों ने नारेबाजी की। 

चित्रकूट : पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश  यादव की गिरफ्तारी से आक्रोशित सपा कार्यकर्ताओं ने जिले में प्रदर्शन किया। प्रदेश सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए झांसी-मीरजापुर राष्ट्रीय राजमार्ग-35 में जाम लगाया। हालांकि तुरंत पुलिस ने हटा दिया। वहीं कांग्रेस, प्रगतिशील समाजवादी पार्टी, आप और माकपा ने भी प्रदर्शन किया। 
 
फतेहपुर : सपा, कांग्रेस ने सड़क पर उतर कर विरोध जाहिर किया। सरकार विरोधी नारे लगाते हुए सपाई कलेक्ट्रेट पहुंच कर मुख्य गेट के सामने धरना देकर बैठ गए। जिलाध्यक्ष विपिन यादव व राष्ट्रीय महासचिव विशंभर प्रसाद निषाद की अगुवाई सपाई इस बात को लेकर अड़ गए कि जिलाधिकारी को ही ज्ञापन देंगे। उधर लोहिया वाहिनी के कार्यकर्ता मुख्यमंत्री का पुतला फूंक कर विरोध जाहिर किया।  कलेक्ट्रेट गेट से हटाने पर पुलिस व सपाइयों में झड़प हुई। कांग्रेस जिलाध्यक्ष अखिलेश पांडेय  के नेतृत्व में नारेबाजी कर कांग्रेसियों ने किसान विरोधी सरकार को बर्खास्त करने की मांग की।