पेगासस जासूसी मामले की स्वतंत्र जांच होगी या नहीं? सुप्रीम कोर्ट कल सुनाएगा फैसला

 

पेगासस मामले की स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट कल सुनाएगा फैसला।

पेगासस जासूसी मामले की स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को फैसला सुनाएगा। प्रधान न्यायाधीश (CJI) एनवी रमना और जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली की पीठ ने 13 सितंबर को आदेश सुरक्षित रख लिया था।

नई दिल्ली, पीटीआइ। पेगासस जासूसी मामले की स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिकाओं पर सुप्रीम कोर्ट बुधवार को फैसला सुनाएगा। प्रधान न्यायाधीश (CJI) एनवी रमना और जस्टिस सूर्यकांत और जस्टिस हिमा कोहली की पीठ ने 13 सितंबर को आदेश सुरक्षित रख लिया था। इस दौरान पीठ ने कहा था कि वह केवल यह जानना चाहती है कि केंद्र ने नागरिकों की कथित तौर पर जासूसी करने के लिए अवैध तरीकों से पेगासस स्पाइवेयर का इस्तेमाल किया है या नहीं। कोर्ट ने मौखिक रूप से कहा था कि वह इस मामले की जांच करने के लिए एक तकनीकी विशेषज्ञ समिति का गठन करेगी। इसके अलावा वह देश के कुछ प्रतिष्ठित लोगों का फोन कथित तौर पर पेगासस के माध्यम से हैक करके निगरानी की शिकायतों की स्वतंत्र जांच की मांग करने वाली याचिकाओं पर एक अंतरिम आदेश पारित करेगी।

समिति के गठन पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी केंद्र के इस बयान के मद्देनजर महत्वपूर्ण हो जाती है कि वह पूरे मामले को देखने के लिए खुद एक विशेषज्ञ पैनल का गठन करेगा। कोर्ट ने कहा था कि वह कुछ दिनों में आदेश सुनाएगा और केंद्र की ओर से पेश सालिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा कि अगर सरकार एक विस्तृत हलफनामा दाखिल करने के बारे में फिर से विचार करे तो इसके बारे में बताएं। केंद्र ने राष्ट्रीय सुरक्षा का हवाला देते हुए एक विस्तृत हलफनामा दायर करने से इन्कार कर दिया था। 

पीठ ने कहा था कि वह केवल केंद्र से जानना चाहती है कि क्या पेगासस का इस्तेमाल लोगों की जासूसी करने के लिए किया गया था और क्या यह कानूनी रूप से किया गया था। यह देखते हुए कि पेगासस विवाद में पत्रकारों और अन्य लोगों द्वारा निजता के उल्लंघन पर चिंता व्यक्त की गई है सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि उसे राष्ट्रीय सुरक्षा से संबंधित विवरण जानने में कोई दिलचस्पी नहीं है। केंद्र ने कहा कि वह इस बारे में विस्तृत हलफनामा दाखिल नहीं करना चाहता है कि किसी विशेष साफ्टवेयर का इस्तेमाल किया गया है या नहीं, क्योंकि यह सार्वजनिक चर्चा का मामला नहीं है और यह 'राष्ट्रीय हित' में नहीं होगा।

Popular posts
अयान मुखर्जी ने शेयर कीं 'ब्रह्मास्त्र' की शूटिंग की 5 तस्वीरें, तीसरी तस्वीर से लीक हुआ रणबीर कपूर के पौराणिक किरदार का लुक?
Image
दिल्ली में बर्बाद हो चुकी फसल के लिए किसानों को मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार, भाजपा ने लिया क्रेडिट
Image
खुद को पानी और आग आग का मिश्रण मानती हैं ईशा सिंह, 'सिर्फ तुम' से डेढ़ साल बाद लौटीं टीवी पर
Image
आमना शरीफ ने ब्लैक ब्रालेट पहन बीच पर 'बोल्ड' अंदाज में किया पोज, तस्वीरें देख ट्रोलर्स ने कहा, 'आप कहां की शरीफ है'
Image
सिर्फ 9 लाख रुपये में ग्रेटर नोएडा में पाएं अपना घर, जानिये- कीमत, ड्रा और पजेशन के बारे में
Image