पटना में दुष्कर्म आरोपित गिरफ्तार, पुणे में बनारस की छात्रा संग दुष्‍कर्म कर वीडियो किया था वायरल

 

वाराणसी पुलिस ने छात्रा संग दुष्‍कर्म मामले में आरोपित को गिरफ्तार कर लिया है।
पुलिस टीम में इंस्पेक्टर सुधीर कुमार सिंह और दो अन्य पुलिसकर्मी शामिल थे जो स्थानीय पुलिस की मदद से आरोपित को गिरफ्तार साथ लेकर चले गए। पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपित का नाम संतोष कुमार है। गिरफ्तारी की पुष्टि दीघा थानाध्यक्ष राजेश कुमार सिन्हा ने भी की है।

पटना/वाराणसी, संवाददाता। छात्रा से दुष्कर्म के मामले में फरार आरोपित को लालपुर - पांडेयपुर थाने की पुलिस ने छापेमारी कर मंगलवार को बिहार के दीघा के यदुवंशी नगर के अखाड़ा रोड से गिरफ्तार कर लिया। पुलिस टीम में इंस्पेक्टर सुधीर कुमार सिंह और दो अन्य पुलिसकर्मी शामिल थे, जो स्थानीय पुलिस की मदद से आरोपित को गिरफ्तार साथ लेकर चले गए। पुलिस सूत्रों के अनुसार आरोपित का नाम संतोष कुमार है। गिरफ्तारी की पुष्टि दीघा थानाध्यक्ष राजेश कुमार सिन्हा ने भी की है।

वाराणसी पुलिस सूत्र के अनुसार बीते दो दिनों से पटना में लालपुर पांडेयपुर थाने की पुलिस टीम सक्रिय थी। इस दौरान दीघा के यदुवंशी नगर के अखाड़ा रोड से आरोपित को पकड़ा गया। इसके बाद वाराणसी पुलिस आरोपित को कोर्ट में पेश करने की तैयारी की जा रही है। माना जा रहा है कि जल्‍द ही आरोपित के खिलाफ चार्जशीट तैयार कर कोर्ट में पेश किया जाएगा।

वाट्सएप पर वायरल कर दी अश्लील तस्वीर : पुलिस सूत्रों के अनुसार संतोष और पीडि़ता पुणे के एक कालेज में साथ पढ़ते हैं। संतोष पर आरोप है कि वह पीडि़ता को आउटिंग के बहाने हास्टल से बाहर ले गया और जबरन शराब पिलाकर उसके साथ दुष्कर्म किया। इस दौरान उसने आपत्तिजनक तस्वीर ले ली और उसके वायरल करने की धमकी देकर करीब दो साल तक यौन शोषण किया। फिर कालेज के वाट्सएप ग्रुप पर तस्वीर को वायरल कर दिया।

पीडि़ता के लौटने पर करने लगा ब्लैकमेल : आरोप है कि दिसंबर 2020 में पीडि़ता अपने घर लौट आई। आरोपित वहां भी पहुंच गया। फरवरी 2021 में पीडि़ता अपने कालेज आकर हास्टल में रहने लगी। आरोपित वहां भी उसे ब्लैकमेल करने लगा। इससे परेशान होकर पीडि़ता वापस लौट आई और इसी साल अगस्त में उसने आरोपित छात्र के खिलाफ लालपुर - पांडेयपुर थाने में केस दर्ज करा दिया। इसके बाद से पुलिस आरोपित छात्र की तलाश में जुटी थी।