लालू की पार्टी से बाहर हो चुके हैं तेजप्रताप यादव, शिवानंद तिवारी ने दिया बड़ा बयान

 

शिवानंद तिवारी और तेजप्रताप यादव। फाइल फोटो
राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव ) को लेकर पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष शिवानंद तिवारी ने बड़ा बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि वे पार्टी से बाहर किए जा चुके हैं।

पटना, आनलाइन डेस्‍क। राजद सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव ) के बड़े बेटे तेजप्रताप यादव को लेकर पार्टी के राष्‍ट्रीय उपाध्‍यक्ष शिवानंद तिवारी ने बड़ा बयान दिया है। उन्‍होंने कहा है कि वे पार्टी से बाहर किए जा चुके हैं। वैशाली के हाजीपुर कार्यालय पहुंचे राजद नेता ने कहा कि जब उन्‍होंने नया संगठन बनाकर पार्टी के सिंबल का इस्‍तेमाल किया था तो उन्‍हें रोक दिया गया था। इसलिए उन्‍हें निष्‍कासित करने की जरूरत ही कहां है, वे तो स्‍वत: निष्‍कासित हो चुके हैं। उपचुनाव लड़ने पर उन्‍होंने कांग्रेस को भी जमकर सुना दिया।

तेजप्रताप यादव जी पार्टी में हैं हीं कहां 

शिवानंद तिवारी ने कहा कि उन्‍होंने जो संगठन बनाया है। इसमें लालटेन का इस्‍तेमाल किया था। लेकिन उन्‍हें मना कर दिया गया। तेजप्रताप ने स्‍वयं भी कहा कि उन्‍हें सिंबल का इस्‍तेमाल करने से मना कर दिया गया है। तेजप्रताप के बयानों की बाबत उन्‍होंने कहा कि तेजप्रताप पार्टी में हैं ही कहां। लालू प्रसाद ने तो स्‍वयं ही बंधक बनाने की बात से इनकार कर दिया था। 

कांग्रेस को नहीं लड़ना चाहिए था चुनाव 

विधानसभा उपचुनाव की बाबत उन्‍होंने कहा कि स्थिति अच्‍छी है। हम लोग चुनाव जीतेंगे। दोनों सीटों पर कांग्रेस से फ्रेंडली फाइट है। लेकिन इससे महागठबंधन पर असर नहीं पड़ेगा। महागठबंधन है। हम लोग दोनों सीटों पर चुनाव लड़ना चाहते थे। नेता प्रतिपक्ष तेजस्‍वी यादव ने तो बयान दिया है कि उन्‍होंने कांग्रेस के बिहार प्रभारी भक्‍त चरण दास को पहले ही कह दिया था कि दोनों सीटों पर राजद चुनाव लड़ेगा। कांग्रेस को चुनाव नहीं लड़ना चाहिए था। पिछले विधानसभा चुनाव में पार्टी 70 सीटों पर चुनाव लड़ गई। पता कर लीजिए कि 25-30 से ज्‍यादा सीटों पर उनका छोटा-मोटा नेता भी प्रचार करने नहीं गया। सीटों पर चुनाव लड़ना ही मकसद है तो इससे नुकसान होगा। बिहार की क्‍या कहें, यूपी में अखिलेश यादव के साथ उनका रिश्‍ता टूट गया। कांग्रेस बड़ी पार्टी है। हम चाहते हैं कि दो सौ सीटों पर कांग्रेस और भाजपा आमने-सामने हों। लेकिन जहां क्षेत्रीय पार्टियां जहां मजबूत हैं, वहां कमान तो हमको दीजिएगा न भाई। लेकिन अगर हमको दबा दीजिएगा तो भाजपा का मुकाबला कैसे कर पाइएगा। जहां हम मजबूत हैं वहां भी अगर वे ड्राइविंग सीट पर रहना चाहेंगे तो हम कहां जाएंगे। 

पारस को गलतफहमी, रामविलास के समर्थक चिराग के साथ

रामविलास पासवान हमारे उस जमाने के मित्र थे, जब वे विधायक भी नहीं थे। पशुपति पारस को गलतफहमी है कि रामविलास जी का समर्थक समूह उनके साथ है। वारिस तो रामविलास जी का चिराग ही है। जैसे बच्‍चे को हाथ पकड़कर बताया जाता है वैसे ही उन्‍होंने चिराग को इंट्रोड्यूस किया था। चिराग ही असली लोक जनशक्ति पार्टी है।लालू प्रसाद के बिहार आने पर उन्‍होंने कहा कि अभी तय नहीं है। जैसी उनकी तबियत जैसी है, डाक्‍टर की सलाह है, उस हिसाब से एक लीटर से अधिक लिक्विड नहीं पीना है। अब फील्‍ड में निकलने लगेंगे तो शरीर में पानी की जरूरत पड़ेगी। उससे उनकी इम्‍यूनिटी बिगड़ सकती है। इसलिए उनका आना डाक्‍टर की सलाह पर निर्भर करता है।