सर्वोदय विद्यालय के शिक्षकों ने स्कूल में अनियमितताओं के खिलाफ की शिकायत

 

अनियमितताओं को लेकर शिक्षकों ने खोला मोर्चा
स्कूल के करीब 30 शिक्षकों ने पत्र में अपने हस्ताक्षर किए हैं। शिक्षकों ने शिक्षा उपनिदेशक को पत्र लिखकर यह शिकायत दर्ज की है। इस मामले में स्कूल के उप प्रधानाचार्य से बात करने का प्रयास किया गया लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।

नई दिल्ली, संवाददाता। शालीमार बाग के बीटी ब्लाक स्थित सर्वोदय विद्यालय के शिक्षकों ने स्कूल में अनियमितताओं के खिलाफ शिकायत की है। दरअसल, शिक्षकों की शिकायत है कि कोरोना काल में उन्हें मास्क, सैनिटाइजर और अन्य जरूरी सामान नहीं दिया गया। ऐसे में अब उन्होंने स्कूल के उप प्रधानाचार्य के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

स्कूल के करीब 30 शिक्षकों ने पत्र में अपने हस्ताक्षर किए हैं। शिक्षकों ने शिक्षा उपनिदेशक को पत्र लिखकर यह शिकायत दर्ज की है। इस मामले में स्कूल के उप प्रधानाचार्य से बात करने का प्रयास किया गया, लेकिन उनसे संपर्क नहीं हो सका।शिक्षकों का कहना है कि स्कूल में प्रशासनिक अनियमिताओं की वजह से न केवल शिक्षक बल्कि अन्य कर्मचारी भी परेशान हैं। शिक्षकों का आरोप है कि स्कूल में आने वाले सभी सामान महंगे खरीदे जाते हैं। इसमें खेल उपकरण, फर्नीचर, बागवानी व अन्य शामिल हैं। इसलिए शिक्षक इसे भ्रष्टाचार की श्रेणी में रखते हुए शिकायत कर रहे हैं।

शिक्षकों का यह भी कहना है कि विरोध करने पर उन्हें धमकी दी गई थी। ऐसे में अब उनका कहना है कि इस मामले में जल्द से जल्द संज्ञान लिया जाना चाहिए। इस बारे में लगातार अधिकारियों को सूचित कर कार्रवाई की मांग की जा रही है। शिक्षक इसे लेकर गंभीरता से जांच करने की बात कर रहे हैं।

आरपीवीवी में शिक्षकों के खाली पदों पर आवेदन शुरू

वहीं, राजकीय प्रतिभा विकास विद्यालय (आरपीवीवी) में पीजीटी और टीजीटी शिक्षकों के कुल 85 पद खाली हैं। स्कूलों में खाली पड़े इन पदों पर नियुक्ति के लिए शिक्षा निदेशालय ने आवेदन मांगे हैं। शिक्षा निदेशालय ने इस संबंध में एक परिपत्र भी जारी किया है। निदेशालय ने कहा कि कुल आठ आरपीवीवी में शिक्षकों के पद खाली हैं। ऐसे में निदेशालय ने संबंधित सरकारी स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों से सत्र 2021-22 के लिए आवेदन मांगे हैं। निदेशालय ने कहा कि जो भी शिक्षक आवेदन करना चाहते हैं, उन्हें संबंधित स्कूल के प्रधानाचार्य को अपना आवेदन पत्र 30 अक्टूबर तक भेजना होगा। प्रधानाचार्य इस आवेदन पत्र को दो नवंबर तक आरपीवीवी के उप शिक्षा निदेशक को भेजेंगे।