लखीमपुर खीरी घटना पर बोले कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल, मामले की होनी चाहिए न्यायिक जांच

 


कहा- मामले की जांच तक केंद्रीय गृह मंत्री को किया जाना चाहिए निलंबित
कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने कहा कि एक नागरिक के रूप में मुझे लगता है कि मौजूदा न्यायाधीश से मामले की न्यायिक जांच कराई जानी चाहिए और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र को जांच के दौरान निलंबित कर दिया जाना चाहिए।

नई दिल्ली, एएनआइ। लखीमपुर खीरी घटना को लेकर पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस नेता कपिल सिब्बल ने मामले की न्यायिक जांच की मांग की है। उन्होंने कहा कि एक नागरिक के रूप में मुझे लगता है कि मौजूदा न्यायाधीश से मामले की न्यायिक जांच कराई जानी चाहिए और केंद्रीय गृह राज्य मंत्री अजय मिश्र को जांच के दौरान निलंबित कर दिया जाना चाहिए।

पूर्व केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'एक नागरिक के रूप में, मुझे लगता है कि एक मौजूदा न्यायाधीश द्वारा मामले की न्यायिक जांच होनी चाहिए। केंद्रीय मंत्री को कम से कम जांच के दौरान बर्खास्त या निलंबित कर दिया जाना चाहिए क्योंकि घटना उनके काफिले के संबंध में हुई थी।'

सीपीआई ने की पीड़ित परिवारों के लिए मुआवजे की मांग

भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (Communist Party of India, CPI) ने सोमवार को लखीमपुर खीरी कांड की उच्च स्तरीय जांच और पीड़ितों के परिवारों के लिए पर्याप्त मुआवजे की मांग की है। पार्टी ने उत्तर प्रदेश सरकार पर हमला करते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के इस्तीफे की भी मांग की है। पार्टी ने कहा कि इस तरह की घटनाओं को लोकतंत्र में बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। किसानों को विरोध करने का पूरा अधिकार है। भाकपा महासचिव डी राजा ने समाचार एजेंसी एएनआइ से बात करते हुए कहा कि उत्तर प्रदेश सरकार किसानों की चिंताओं को दूर करने में पूरी तरह विफल रही है।