पंडाल लगभग बनकर तैयार, अब बस मां के आगमन का है इंतजार

 


रांची के बकरी बाजार में बन रहा दुर्गा पूजा का पंडाल
गुरुवार को कलश स्थापना के साथ दुर्गा पूजा शुरू हो रहा है। शहर में पूजा पंडाल भी लगभग बनकर तैयार हो चुके हैं। कई समितियां आनलाइन दर्शन करवाने की व्यवस्था करवाएंगी। वहीं कुछ समितियां आनलाइन दर्शन नहीं कराएंगी। शहर में पूजा- पंडालों पर रिपोर्ट।

रांची (सं ) : गुरुवार को कलश स्थापना के साथ दुर्गा पूजा शुरू हो रहा है। शहर में पूजा पंडाल भी लगभग बनकर तैयार हो चुके हैं। पूजा को लेकर समितियों की ओर से बैठकों का दौर भी खत्म हो चुका है। इस बार भी कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए पूजा पंडाल में सख्ती बरती जाएगी। कई समितियां आनलाइन दर्शन करवाने की व्यवस्था करवाएंगी। वहीं कुछ समितियां आनलाइन दर्शन नहीं कराएंगी। शहर में पूजा- पंडालों पर रिपोर्ट।

रांची रेलवे स्टेशन दुर्गा पूजा समिति

पिछली बार की भांति इस बार भी रांची रेलवे स्टेशन दुर्गा पूजा समिति के पंडाल की भव्यता नहीं दिखेगी। रांची रेलवे स्टेशन दुर्गा पूजा समिति के अध्यक्ष मुनचुन राय ने बताया कि भीड़ को नियंत्रित करने के लिए प्रवेश व निकास द्वार को आमने-सामने बनाया गया है। जिससे श्रद्धालु मां के दर्शन कर सीधे बाहर निकल सकते हैं। कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए पंडाल में आकर्षक साज-सजावट नहीं की जाएगी। यहां आनलाइन दर्शन की भी व्यवस्था कराई जाएगी। श्रद्धालु घर बैठे इंस्टाग्राम और फेसबुक पर मां के दर्शन कर पाएंगे।

राजस्थान मित्र मंडल

राजस्थान मित्र मंडल दुर्गा पूजा समिति में षष्ठी से पंडाल परिसर में वैक्सिनेशन कैंप लगाया जाएगा। इस बार भी श्रद्धालु षष्ठी से पूजा का ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे। श्रद्धालु समिति की वेबसाइट व फेसबुक के माध्यम से दर्शन कर सकेंगे। नौ दुर्गा के नौ दिन तक गरीब परिवार की एक कन्या को पूजा जाएगा। साथ ही कन्या के परिवार को 5100 रुपये का आर्थिक सहयोग किया जाएगा।

बकरी बाजार

कोलकाता से मां की प्रतिमा मंगाई गई है। रविवार तक पंडाल भी बनकर तैयार हो गाएगा। ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था नहीं कराई गई है। भोग वितरण नहीं कराया जाएगा। लेकिन दुर्गा मंदिर परिसर में भोग खरीदने की व्यवस्था की जाएगी। जो श्रद्धालु भोग खरीदना चाहें वो खरीद सकते हैं।

बिहार क्लब

इस बार भी पूजा सादगी से मनाई जाएगी। पंडाल परिसर का गेट श्रद्धालुओं के लिए बंद रहेगा। माइक, लाउडस्पीकर की व्यवस्था नहीं होगी। भजन भी नहीं बजाया जाएगा। केवल पुरोहित, ढाक वाले व समिति के सदस्य ही पूजा में शामिल होंगे। षष्ठी से श्रद्धालु ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे। फिलहाल ऑनलाइन दर्शन किस माध्यम से होगा, उस पर अभी कोई निर्णय नहीं लिया गया है।

कोकर साधु मैदान

साधारण तरीके से पूजा का आयोजन किया जाएगा। ऑनलाइन दर्शन की व्यवस्था नहीं की गई है। भीड़ को नियंत्रित करने के लिए जगह-जगह पर बैरिकेडिंग की जाएगी। 20 हजार प्लास्टिक के डब्बों में श्रद्धालुओं को भोग प्रदान किया जाएगा व 5000 स्टील के डब्बों में चंदा देने वालों को भोग बांटा जाएगा।

विनेक्स क्लब दुर्गा पूजा समिति

बरियातू हाउसिंग कॉलोनी स्थित श्री सीताराम मंदिर प्रांगण में वर्ष 1971 से ही दुर्गा पूजा का आयोजन किया जा रहा है। शुरुआत में यह पूजा कॉलोनी के हिसाब से एवं काफी छोटे स्तर पर किया जाता था । बाद में इस पूजा का आयोजन विनेक्स कल्ब श्री दुर्गा पूजा समिति द्वारा क्लब के संस्थापक दिवंगत राकेश कुमार महेंद्र (बिल्लू) के नेतृत्व में इस पूजा का को वृहद स्वरूप दिया गया और धीरे-धीरे विनेक्स क्लब दुर्गा पूजा रांची के बड़े पूजा पंडाल के रूप में जाना जाने लगा। अपने आकर्षक कलाकृति एवं भव्य पंडाल एवं आयोजन के लिए इस समिति को कई बार पुरस्कृत भी किया गया है। लेकिन कोरोना को लेकर पिछले वर्ष से ही पूजा का आयोजन काफी साधारण एवं सावधानी पूर्वक किया जा रहा है और इस वर्ष भी पूजा का आयोजन कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए एवं छोटे स्तर पर किया जाएगा। मुख्य संरक्षक संजय मिनोचा एवं दुर्गा उरांव ने कहा कि कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए पूरे विधि-विधान से पूजा का आयोजन किया जा रहा है हम उम्मीद करते हैं की पूजा सफलतापूर्वक संपन्न होगा।

बांधगाड़ी दुर्गा पूजा समिति

पिछले बार की हुई गलती से सीख मिल चुकी है। पिछले बार एसडीओ ने पंडाल बंद करवा दिया था। इसलिए एस बार पूर्णतया साधारण तरीके से ही पूजा मनाया जाएगा। कोरोना गाइडलाइन का अच्छे से पालन किया जाएगा। लाउडस्पीकर केवल पुरोहित द्वारा मंत्रोच्चारण के लिए किया जाएगा।