चोरी में पांच शतक लगा चुके अंतरराज्यीय वाहन चोर गिरोह का भंडाफोड़, दो गिरफ्तार

 


पुलिस तीनों से पूछताछ कर इनके बाकी साथियों के बारे में पता लगा रही है।
जिला पुलिस उपायुक्त प्रियंका कश्यप ने बताया कि वाहन चोरी की वारदात पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस ने अभियान चलाया हुआ है। एसीपी वेद प्रकाश की देखरेख में इंस्पेक्टर सतेंद्र खारी एसआइ रणबीर अरविंद एएसआइ आदेश अमित अनिल व अन्य की टीम बनाई हुई है।

नई दिल्ली,  संवाददाता। पूर्वी जिले के स्पेशल स्टाफ ने एक अंतरराज्यीय वाहन चोरों के गिरोह का भंडाफोड़ किया। गिरोह के दो सदस्य वाहन चोरी में पांच शतक लगा चुके हैं। आरोपितों की पहचान मुजम्मिल उर्फ रेहान और अरशद व रिसीवर प्रदीप कुमार के रूप में हुई है। तीनों ही मेरठ के रहने वाले हैं। यह गिरोह दिल्ली-एनसीआर से वाहन चोरी करके एनएच-नौ के रास्ते मेरठ ले जाता था। पुलिस ने इनके पास से 11 दो पहिया वाहन बरामद किए हैं। पुलिस तीनों से पूछताछ कर इनके बाकी साथियों के बारे में पता लगा रही है।

जिला पुलिस उपायुक्त प्रियंका कश्यप ने बताया कि वाहन चोरी की वारदात पर अंकुश लगाने के लिए पुलिस ने अभियान चलाया हुआ है। एसीपी वेद प्रकाश की देखरेख में इंस्पेक्टर सतेंद्र खारी, एसआइ रणबीर, अरविंद, एएसआइ आदेश, अमित, अनिल व अन्य की टीम बनाई हुई है। टीम को जांच में पता चला मेरठ का गिरोह शकरपुर इलाके में सक्रिय है, इस गिरोह के सदस्य वाहन चोरी करके एनएच-नौ के रास्ते मेरठ ले जाते हैं और वहां बेच देते हैं।

टीम को गुप्त सूचना मिली की गिरोह के सदस्य वाहन चोरी करके एनएच-नौ से मेरठ लेकर जाएंगे, टीम ने गाजीपुर सीएनजी पंप के पास अपना जाल बिछाया और मुज्जमिल और अरशद को चोरी की मोटरसाइकिल के साथ दबोच लिया। पुलिस को पूछताछ में पता चला दोनों आरोपित पिछले कुछ वर्षों में दिल्ली-एनसीआर से पांच सौ दो पहिया वाहन चोरी कर चुके हैं। वह वाहन चोरी करके मेरठ में प्रदीप, राहुल चक्की, राहुल काला और संयम को बेच देते थे। बाद में पुलिस ने मेरठ से प्रदीप को दबोच लिया, उसके पास से 11 दो पहिया वाहन बरामद हुए। मुज्जमिल पर पहले से वाहन चोरी के 14 और अरशद पर छह केस दर्ज हैं।