कैसे इलेक्ट्रिक वाहन खरीदकर आप पहुंचाएंगे लाखों लोगों को फायदा

 

Electric Vehicle Benefits: पढ़िये- कैसे इलेक्ट्रिक वाहन खरीदकर आप पहुंचाएंगे लाखों लोगों को फायदा

भविष्य का वाहन माने जाने वाले ई-व्हीकल की सबसे बेहतर बात यह है कि इससे धुआं बिलकुल नहीं निकलता है। इंजन न होने के कारण ध्वनि प्रदूषण भी नहीं होता। वहीं ई-बाइक चलाने के लिए किसी रजिस्ट्रेशन या लाइसेंस की भी जरूरत नहीं है।

नई दिल्ली/नोएडा,संवाददाता। सर्दियों में प्रत्येक वर्ष दमघोंटू हवा में सांस लेने के कारण लोगों को भारी परेशानी हो रही है। हवा को दमघोंटू बनाने में सबसे अधिक हिस्सा वाहनों से निकलने वाले धुएं का है। विशेषज्ञों के मुताबिक अगर दिल्ली एनसीआर में ई-वाहनों की संख्या बढ़ जाए, तो काफी हद तक वाहनों से जहरीला धुआं निकलने की समस्या खत्म होगी और लोगों को सांस लेने के लिए स्वच्छ हवा मिल सकती है। वायु गुणवत्ता सूचकांक को बेहतर किया जा सकता है।

भविष्य का वाहन माने जाने वाले ई-व्हीकल की सबसे बेहतर बात यह है कि इससे धुआं बिलकुल नहीं निकलता है। इंजन न होने के कारण ध्वनि प्रदूषण भी नहीं होता। वहीं ई-बाइक चलाने के लिए किसी रजिस्ट्रेशन या लाइसेंस की भी जरूरत नहीं है। इस समय बाजार में प्रमुख ब्रांड के 20 से अधिक ई-बाइक और ई-स्कूटर उपलब्ध हैं। इनकी कीमत 40 हजार रुपये से शुरू होती है।

खरीदारों को आसानी से फाइनेंस के विकल्प भी मिल रहे हैं, जिससे लोगों को अधिक से अधिक इन वाहनों की तरफ आकर्षित किया जा सके। भारी वाहनों के प्रदूषण सहित विभिन्न कारणों से दिल्ली सहित पूरे एनसीआर में एक्यूआई हर गुजरते दिन के साथ खराब होता जा रहा है। वाहनों की सड़क पर चलने से नहीं रोका जा सकता।

jagran

यहां पर बता दें कि आड व इवन के फार्मूले से वाहनों की संख्या कुछ कम होती है, लेकिन यह समस्या का स्थायी समाधान नहीं है। विशेषज्ञों के मुताबिक वाहनों से निकलने वाले धुएं का बड़ा हिस्सा निजी वाहनों का है।

ई-व्हीलर्स के सीईओ वासु देवा रेड्डी बीराला के मुताबिक, ईंधन का प्रयोग नहीं होने के कारण इन वाहनों का खर्च लगभग नहीं के बराबर होता है। ध्वनि और वायु प्रदूषण को खत्म करने का बेहतर विकल्प ये वाहन हो सकते हैं। खासकर दिल्ली-एनसीआर में ई-वाहन वायु प्रदूषण में कमी लाने में मदद कर सकते हैं।