इमरान खान और पाक सेना के बीच आइएसआइ प्रमुख को लेकर टकराव, जानिए क्या है पूरा मामलाइमरान खान और पाक सेना के बीच आइएसआइ प्रमुख को लेकर टकराव, जानिए क्या है पूरा मामला

 


सेठी ने शो में कहा कि ले.जनरल फैज हमीद को पेशावर कार्प कमांडर बनाने और जनरल नदीम अंजुम को आइएसआइ का नया डीजी नियुक्त किए जाने की घोषणा नियमानुसार प्रधानमंत्री कार्यालय से आने के बजाय सेना के कैडर से आती है।

नई दिल्ली, आइएएनएस। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने सेना से कहा है कि वह पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ के नए प्रमुख फैज हमीद को बदलने के पक्षधर हैं। इसके चलते प्रधानमंत्री कार्यालय और खुफिया एजेंसी के बीच तनाव की स्थिति है। फ्राइडे टाइम्स के अनुसार पाकिस्तान के वरिष्ठ पत्रकार नजम सेठी ने एक टीवी शो में कहा कि इस मामले में प्रधानमंत्री की स्थिति खराब होती नजर आ रही है। आइएसआइ के नए डीजी के नाम की घोषणा होने के बावजूद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री की ओर से अधिसूचना पर दस्तखत नहीं किए गए हैं। यहां तक कि आइएसआइ प्रमुख को जो मंजूरी प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से मिलती है, वह काफी देरी के बाद सेना की ओर से दी है जो कि सामान्य स्थिति नहीं है। इस फैसले से प्रधानमंत्री इमरान खान और सेना के बीच तनाव जाहिर तौर पर नजर आने लगा है।

सेठी ने शो में कहा कि ले.जनरल फैज हमीद को पेशावर कार्प कमांडर बनाने और जनरल नदीम अंजुम को आइएसआइ का नया डीजी नियुक्त किए जाने की घोषणा नियमानुसार प्रधानमंत्री कार्यालय से आने के बजाय सेना के कैडर से आती है। यह बेहद हैरतअंगेज स्थिति है। जबकि प्रधानमंत्री यह नियुक्ति करता है। इसलिए आदेश इस्लामाबाद से आना चाहिए था जो कि रावलपिंडी से आया है।यहां तक कि प्रधानमंत्री की बुलाई राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की बैठक में ले.जनरल फैज हमीद मौजूद रहे। जबकि उनके तबादले के आदेश जारी किए जा चुके हैं। लेकिन जनरल फैज इस बैठक में आइएसआइ डीजी की हैसियत से मौजूद थे।

सेठी ने यह भी बताया कि नागरिक और सैन्य नेतृत्व में इस तरह का टकराव कभी भी कोई समाधान नहीं लाता है। इस बैठक का भी कोई नतीजा नहीं निकला जिससे साफ है कि फिलहाल पाकिस्तान के नागरिक-सैन्य संबंधों में कोई सुधार नहीं आने वाला है। हालांकि दोनों ही पक्ष इस मामले में सार्वजनिक स्तर पर चुप्पी साधे हैं। सेठी के मुताबिक इस तनाव में इमरान खान की कैबिनेट के भी कुछ सदस्य जुड़ गए हैं। लेकिन गतिरोध जारी ह

ै।