पत्रकार की मौत की स्वतंत्र जांच हो - एडिटर्स गिल्ड

 

पत्रकार की मौत की स्वतंत्र जांच हो - एडीटर्स गिल्ड

लखीमपुर हिंसा की चपेट में आए टीवी पत्रकर रमण कश्यप के लिए एडिटर्स गिल्ड आफ इंडिया ने आवाज उठाई है और मामले में जांच की मांग की। एडिटर्स गिल्ड ने हैरानी जाहिर करते हुए कहा कि मामले की जांच कोर्ट की अगुवाई में स्पेशल इंवेस्टिगेशन टीम को करनी चाहिए।

 नई दिल्ली, प्रेट्र। एडिटर्स गिल्ड आफ इंडिया (ईजीआइ) ने मंगलवार को कहा कि लखीमपुर खीरी हिंसा (Lakhimpur Kheri Violence) में टीवी पत्रकार रमन कश्यप की मौत चौंकाने वाली है। कश्यप की मौत की अलग से जांच होनी चाहिए। जिन परिस्थितियों में उनकी मौत हुई, उसका पता लगाने के लिए कोर्ट की निगरानी में विशेष जांच दल गठित किया जाना चाहिए।

गिल्ड ने एक बयान में कहा कि कश्यप की मौत के बारे में मीडिया में तरह-तरह तरह की जानकारी आ रही है। एक रिपोर्ट में दावा किया गया है कि उनकी मौत गोली लगने से हुई।बयान में कहा गया कि एडीटर्स गिल्ड रमन कश्यप की मौत से सदमे में है। घटना वाले दिन कश्यप रिपोर्टिंग  कर रहे थे। गिल्ड की मांग है कि कोर्ट के निगरानी में विशेष जांच टीम द्वारा कश्यप की मौत की अलग से जांच की जाए ताकि मौत की परिस्थितियों का पता लगाया जा सके। घटनाओं के सिलसिले को सामने लाने के लिए उनके कैमरे के फुटेज को प्राप्त करने और उसका उपयोग करने का प्रयास किया जाए।

बीते रविवार को लखीपुर खीरी में भड़की हिंसा में आठ लोगों की मौत हो गई। सोमवार को इन सभी का पोस्टमार्टम किया गया जिसके रिपोर्ट में पता चला है कि किसी की मौत घसीटने से तो किसी की लाठी-डंडों की पिटाई से हुई है। रिपोर्ट में सामने आया है कि किसी की मौत शाक से तो किसी की ब्रेन हेमरेज से हुई है, लेकिन पोस्टमार्टम रिपोर्ट में गोली लगने की बात नहीं कही गई है।

बता दें कि तिकुनिया में रविवार को हुए बवाल में मारे गए आठ में से टीवी पत्रकार रमण समेत चार शवों का देर रात ही तीन डाक्टरों के पैनल ने पोस्टमार्टम किया। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में यह बात सामने आई कि इन लोगों को लाठी-डंडों से बुरी तरह से न सिर्फ पीटा गया, बल्कि घिसटने के कई गंभीर जख्म भी शरीर पर मिले हैं। इन्हीं सब चोटों को इन चारों की मौत का कारण पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बताया गया है। रिपोर्ट में हड्डी टूटने के साथ चोट का भी जिक्र है।