लखनऊ से सीतापुर जा रहे हैं राहुल गांधी, प्रियंका गांधी को अस्थाई जेल से रिहाई मिली

 

उप्र सरकार ने राहुल गांधी और प्रियंका गांधी को लखीमपुर जाने की अनुमति दे दी है।
 लखीमपुर खीरी मामले को जोरशोर से उठाने के लिए कांग्रेस नेता राहुल गांधी दो सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल के साथ लखनऊ पहुंच गए हैं। उप्र सरकार ने उन्हें पीड़ित परिवारों से मिलने की अनुमति दे दी है।

नई दिल्ली, एजेंसी। उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा पर जबरदस्त राजनीति हो रही है। कांग्रेस समेत सभी विपक्षी दल इस मामले में केंद्र और राज्य सरकार की घेराबंदी में जुट गए हैं। लखनऊ एयरपोर्ट से राहुल गांधी सीतापुर के लिए रवाना हो गए हैं। वहां से वह प्रियंका गांधी के साथ लखीमपुर खीरी जाएंगे। लखीमपुर खीरी जाने की कोशिश कर रही प्रियंका गांधी को सीतापुर में हिरासत में रखा गया है। इससे पहले राहुल लखनऊ एयरपोर्ट पर ही धरने पर ही बैठ गए थे। उनका आरोप था कि पुलिस उन्हें अपनी गाड़ी में ले जाना चाहती है। कांग्रेस नेता के साथ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी भी मौजूद हैं। यूपी सरकार ने राहुल गांधी, प्रियंका गांधी के अलावा तीन अन्य लोगों को लखीमपुर खीरी जाने की अनुमति दी है। इससे पहले गृह राज्य मंत्री अजय मिश्रा टेनी ने दिल्ली में अमित शाह से मुलाकात की है। टेनी के बेटे आशीष मिश्रा पर ही किसानों पर गाड़ी चढ़ाने का आरोप है।

- कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी को सीतापुर की अस्थाई जेल से रिहाई मिली।

- लखनऊ एयरपोर्ट पर कांग्रेस नेता राहुल गांधी धरने पर बैठ गए हैं। उन्होंने कहा कि हमें अपनी गाड़ी में लखीमपुर खीरी जाना है, लेकिन पुलिस चाहती है कि हम इनके साथ इनकी गाड़ी में जाएं। इसका मतलब है कि ये कुछ न कुछ बदमाशी कर रहे हैं, इसलिए हम लोग यहां बैठे हुए हैं।

- कांग्रेस नेता राहुल गांधी, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल और पंजाब के मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी लखीमपुर खीरी हिंसा में जान गंवाने वाले किसानों के परिवारों से मिलने के लिए हवाई मार्ग से उत्तर प्रदेश के लखनऊ के लिए रवाना हुए।

- छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल ने कहा कि धारा 144 में 5 से अधिक लोग इकट्ठे नहीं हो सकते। उससे कम लोग जा सकते हैं। कल भी मुझे गलत तरीके से रोका गया था। हमलोग पीड़ित परिवार तक पहुंचने का प्रयास करेंगे। आखिर ऐसी क्या बात है, जिसे राज्य सरकार छुपाना चाहती है? ऐसा क्या है, जिससे किसी को बचाना चाहती है।

- लखीमपुर खीरी ना जाने देने पर कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा कि भाजपा सरकार बाकी राजनीतिक दलों को जाने दे रही है। तृणमूल कांग्रेस के 5 सांसद वहां (लखीमपुर खीरी) गए, भीम आर्मी के हमारे मित्र दर्जनों लोगों के साथ वहां गए तो कांग्रेस के नेता क्यों नहीं जा सकते? हमारा क्या अपराध है?

- लखीमपुर खीरी घटना पर दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने सवाल किया कि अभी तक हत्यारों को गिरफ्तार तक नहीं किया गया है। आज एक तरफ सरकार आजादी का अमृत महोत्सव मना रही है और दूसरी तरफ विपक्ष के नेता जब मृतक के परिवारों से मिलने जा रहे हैं, तो उन्हें जेल में डाला जा रहा है, ये कौन-सी आजादी का जश्न है।

- विपक्षी दलों द्वारा लखीमपुर खीरी जाने पर उत्तर प्रदेश सरकार में मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह ने कहा कि लखीमपुर आपको जाना है तो कुछ दिन बाद चले जाइएगा। आप दुखी परिवारों से मिलें, इसमें कोई आपत्ति नहीं है, लेकिन माहौल बिगाड़ने के लिए इजाजत नहीं दी जाएगी। उन्होंने कहा कि स्थिति नियंत्रण हो जाए तो उनको जाने दिया जाएगा।

- लखीमपुर खीरी घटना पर एडीजी एसएन सबत का कहना है कि इस मामले में कार्रवाई चल रही है। हमारे पास बहुत सारी तस्वीरें हैं और हमने मीडिया से भी कहा है कि अगर किसी के पास वास्तविक तस्वीर है, तो वो हमें उपलब्ध कराएं, ताकि वो तस्वीरें हमें जांच में काम आए।