दिल्ली में स्पेशल सेल ने किया अंतरराज्यीय हथियार तस्करी का भंडाफोड़, दो तस्कर गिरफ्तार

 

दिल्ली में अंतरराज्यीय हथियार तस्करी का भंडाफोड़, दो तस्कर गिरफ्तार
दिल्ली में पुलिस ने अंतरराज्यीय हथियार तस्करी का भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने दो तस्करों को गिरफ्तार किया है। आरोपित शाकिर और जुनैद हरियाणा के मेवात के रहने वाले हैं। आरोपितों के पास से 15 पिस्टल और 30 जिंदा कारतूस बरामद किया गया है।

नई दिल्ली,  संवाददाता। त्योहारों के बीच स्पेशल सेल ने दिल्ली से दो कुख्यात हथियार व कारतूस तस्करों को गिरफ्तार किया है। दोनों मध्य प्रदेश के खरगोन के पिस्टल व कारतूस लाकर उसे दिल्ली-एनसीआर के अलावा हरियाणा, पंजाब व उत्तर प्रदेश में बदमाशों को आपूर्ति करते थे। पिछले तीन के दौरान दोनों करीब 400 पिस्टल व भारी संख्या में कारतूस आपूर्ति कर चुके हैं।

डीसीपी स्पेशल सेल जसमीत सिंह के मुताबिक गिरफ्तार किए गए तस्करों के नाम शाकीर व जुनैद खान है। दोनों हरियाणा के मेवात इलाके नूह जिले के रहने वाले हैं। इनके पास से प्वाइंट 32 बोर की 15 सेमीआटोमेटिक पिस्टल व 30 कारतूस बरामद किए गए। उक्त हथियार व कारतूस दिल्ली-एनसीआर के बदमाशाों को आपूर्ति की जानी थी लेकिन त्योहारों के बीच सेल की चौकसी के कारण वे दबोच लिए गए।jagran

स्पेशल सेल को सूचना मिली थी कि मेवात इलाके के कुछ हथियार तस्कर खरगोन से हथियार व कारतूस लाकर दिल्ली-एनसीआर में बदमाशों को आपूर्ति कर रहे हैं। दो महीने से अधिक के निरंतर प्रयासों के बाद 25 अक्टूबर को एसआई देवेंद्र भाटी को सूचना प्राप्त हुई कि शाकिर व जुनैद खान हथियार व कारतूस आपूर्ति करने सूरजकुंड टर्निंग, महरौली बदरपुर रोड के पास आने वाले हैं।

एसीपी अतर सिंह व इंस्पेक्टर ईश्वर सिंह के नेतृत्व एसआई सतविंदर, एसआई रंजीत, एसआई देवेंद्र भाटी, हवलदार अजय, अमित सिपाही सचिन की टीम ने दोनों को दबोच लिया। दोनों के पास बैग से हथियार व कारतूस बरामद हुए। इनके खिलाफ हथशर तस्करी की नई धारा के तहत मामला दर्ज कर लिया गया। उक्त धारा के तहत आरोपितों को न्यूनतम 10 साल व अधिकतम आजीवन कारावास तक सजा का प्रविधान है। उनपर जुर्माना भी लगाया जा सकता है।

पूछताछ में शाकिर ने बताया कि उसने बरामद पिस्टल और कारतूस मध्य प्रदेश के खरगोन के एक अवैध हथियार निर्माता से खरीदे थे। वह और जुनैद खान पिछले 3 वर्षों से दिल्ली एनसीआर, हरियाणा, पंजाब और यूपी में अवैध हथियार और कारतूसों की आपूर्ति में लिप्त है।

7 साल पहले उसे पास के गांव के एक व्यक्ति ने हथियारों की तस्करी सिंडिकेट से जुड़ने का लालच दिया था। शुरू में शाकिर ने उसके लिए 3 साल तक वाहक के रूप में काम किया। बाद में उसने हथियारों की तस्करी का अपना नेटवर्क विकसित किया। जुनैद खान ने बताया कि शाकिर ने उसे अपने सिंडिकेट में शामिल होने और हथियारों की तस्करी में मदद करने के लिए लालच दिया था। शाकिर को पहले भी हथियार तस्करी के मामले में हरियाणा पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है।