दिल्ली-एनसीआर के शहरों में चांद के निकलने का समय

 

 

Karwa Chauth 2021 Moonrise Time: जानिये, दिल्ली-एनसीआर के शहरों में कितने बजे दिखेगा चांद

करवा चौथ पर व्रत रखने वाली सुहागिन महिलाओं के पूजा के लिए रविवार शाम 5 बजकर 45 मिनट से शुभ मुहूर्त शुरू हुआ है जो शाम 7 बजकर 2 मिनट तक है।

नई दिल्ली,  डिजिटल डेस्क। दिल्ली-एनसीआर समेत देशभर में करवा चौथ का त्योहार अगले कुछ घंटों में अंतिम चरण में पहुंचने वाला है। व्रत रखने वाली सुहागिन महिलाओं के पूजा के लिए रविवार शाम 5 बजकर 45 मिनट से  शुभ मुहूर्त शुरू हुआ है, जो 7 बजकर 2 मिनट तक है। वहीं, करवा चौथ के दिन चांद निकलने का समय देशभर में हर जगह पर अलग-अलग होता है। ऐसे में कुछ स्थानों पर चांद जल्दी निकल आता है, तो कहीं पर चांद का दीदार देरी से होता है।

दिल्ली-एनसीआर में मुश्किल होगा चांद का दीदार!

भारतीय मौसम विज्ञान विभाग के मुताबिक, दिल्ली-एनसीआर में रविवार शाम को हल्की बारिश हो सकता है। इसके साथ अगले कुछ घंटों तक दिल्ली-एनसीआर के आसमान में बादल छाए रह सकते हैं, ऐसे में करवा चौथ पर चांद के नजर आने के आसार कम हैं।

दिल्ली-एनसीआर के शहरों में चांद निकलने का समय

  •  दिल्ली में शाम 8 बजकर 08 मिनट मिनट पर चांद निकलेगा।
  •  नोएडा और गाजियाबाद में चांद निकलने का समय रविवार शाम 8 बजकर 7 मिनट होगा।
  • गुरुग्राम और में रविवार शाम 8 बज कर 8 मिनट पर चांद नजर आएगा।
  • मेरठ में चांद 8 ूबजकर 5 मिनट पर निकलेगा।
  • लखनऊ में 7 बजकर 55 मिनट पर चांद दिखेगा।
  • आगरा में चांद निकलने का समय रविवार को शाम 8 बजकर 7 मिनट है।
  • अलीगढ़ में चांद निकलने का समय शाम 8 बजकर 6 मिनट होगा।
  • गोरखपुर में चांद निकलने का समय शाम 7 बजकर 47 मिनट है।
  • मथुरा में चांद निकलने का समय रविवार शाम 8 बजकर 8 मिनट है।

बादलों के छाने से इन इलाकों में मुश्किल होगा चांद का दर्शन

दिल्ली (Delhi)

नोएडा (Noida)

ग्रेटर नोएडा (Greater Noida)

पिलखुवा (Pilkhua)

बड़ौत (Barut)

हापुड़ (Hapur)

गाजियाबाद (Ghaziabad)

मोदीनगर (Modinagar)

दादरी (Dadri)

छपरौला (Chapraula)

सोनीपत (Sonipat)

खरखौदा (Kherkhoda)

फर्रुखनगर (Farukhnagar)

रेवाड़ी (Rewari)

बावल (Bawal)

मानेसर (Manesar)

गुरुग्राम (Gurugram)

फरीदाबाद 

jagran

करवा चौथ त्योहार पर दिल्ली-एनसीआर समेत देशभर की करोड़ों महिलाओं ने रविवार सुबह से निर्जला व्रत रखा हुआ है। चंद्रमा के निकले का समय अभी दूर है, लेकिन पूजा के लिए रविवार शाम 5 बजकर 45 मिनट से लेकर 7 बजकर 2 मिनट तक का समय बहुत शुभ है। इसी कड़ी में अर्घ्य देने का समय 8 बजकर 30 मिनट से लेकर 9 बजकर 30 मिनट तक शुभ है।

हिंदुओं के प्रमुख त्योहारों में शुमार करवा चौथ दिल्ली-एनसीआर समेत समूचे देशभर में मनाया जा रहा है। प्रत्येक वर्ष कार्तिक माह की चतुर्थी तिथि को मनाए जाने वाले करवा चौथ पर रविवार सुबह से ही शादीशुदा महिलाओं ने अपने पति की लंबी आयु के लिए कठिन व्रत रखा हुआ है, जो देर शाम चांद को देखने के बाद पति के हाथों कुछ खा पीकर तोड़ा जाएगा।

jagran

हिंदु मान्यता के अनुसार, इस बेहद कठिन व्रत में सुहागिन महिलाएं रविवार सुबह से ही दिनभर निर्जला व्रत रखेंगीं। इस दौरान व्रत रखने वाली सुहागिन महिलाओं के लिए कुछ भी खाना-पीना वर्जित है। करवा चौथ के व्रत के दौरान शाम के समय शिव-पार्वती, गणेश और कार्तिकेय और चंद्रमा की पूजा की जाएगी। इस व्रत को खोलने के क्रम में शाम को चांद दर्शन के बाद व्रत का समापन होगा। आइये यहां जानते हैं कि राजधानी दिल्ली के साथ-साथ एनसीआर के शहरों में कब होगा चांद का दीदार और सुहागिन महिलाएं व्रत खोलेंगी।

jagran

सामान्य तौर पर सुहागिन महिलाएं इस व्रत के दौरान माता पार्वती और भगवान शिव के साथ भगवान कार्तिकेय की भी पूजा करती हैं। महिलाएं पति को छलनी से देखती हैं। इसके बाद पति अपनी पत्नी को पानी पिलाकर व्रत तुड़वाता है।

करवा चौथ के कठिन व्रत के क्रम में सबसे पहले सुहागिन महिलाएं इस दिन सुबह नित्य कर्म कर पूरे मन से व्रत का संकल्प लेती हैं। घर और मंदिर आदि की साफ- सफाई कर ज्योत जलाई जाती है। इसी क्रम में घर में देवी- देवताओं की पूजा- अर्चना भी की जाती है। इस रोज खासतौर से शिव परिवार की पूजा- अर्चना की जाती है। इस क्रम में सबसे पहले महिलाएं भगवान गणेश की पूजा करती हैं। वहीं, किसी भी शुभ काम को शुरू करने के क्रम में भगवान गणेश की पूजा करते हैं। इसके बाद करवा चौथ के व्रत में चंद्रमा की पूजा की जाती है। अंतिम चरण में चंद्र दर्शन के बाद पति को छलनी से देखा जाता है। इसके बाद पति द्वारा पत्नी को पानी पिलाकर व्रत तोड़ा जाता है।