हिंद-प्रशांत क्षेत्र में शांति के लिए अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था बनाए रखना जरूरी, अमेरिकी उप विदेश मंत्री से हर्षवर्धन श्रृंगला की बैठक

 

अमेरिका की उप विदेश मंत्री वेंडी शरमन ने हर्षवर्धन श्रृंगला से की द्विपक्षीय संबंधों पर मीटिंग
अमेरिका की उप विदेश मंत्री भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर और अजीत डोभाल से भी मुलाकात करेंगी। उन्होंने भारतीय विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला के साथ एक बैठक संपन्न की है। बताया गया कि इसमें द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा की गई।

नई दिल्ली, एजेंसी। अमेरिका की उप विदेश मंत्री वेंडी शरमन और विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने दिल्ली के हैदराबाद हाउस में द्विपक्षीय बैठक की। वेंडी शरमन तीन दिवसीय भारत यात्रा पर मंगलवार को दिल्ली पहुंचीं। उन्होंने बुधवार को श्रृंगला के साथ द्विपक्षीय, क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा की। शरमन ने कहा, 'भारत और अमेरिका जानते हैं कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र और दुनिया भर में शांति और स्थिरता बनाए रखने का सबसे अच्छा तरीका नियम-आधारित अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को बनाए रखना और मजबूत करना है। हमारी यह एक अनिवार्य साझेदारी है।'

इसके अलावा महामारी पर बात करते हुए उन्होंने कहा, 'दुनिया के सबसे बड़े वैक्सीन उत्पादक के रूप में, भारत COVID के खिलाफ लड़ाई में एक महत्वपूर्ण लीडर है। हम क्वाड वैक्सीन साझेदारी के माध्यम से दुनिया को टीका लगाने के लिए भारत के साथ मिलकर काम करने की आशा करते हैं।'

विदेश मंत्रालय ने बताया था कि दोनों पक्ष दक्षिण एशिया से जुड़े क्षेत्रीय मुद्दों, हिंद-प्रशांत क्षेत्र तथा समसामयिक वैश्विक मुद्दों पर विचारों का आदान-प्रदान करेंगे। विदेश मंत्रालय ने एक बयान में कहा, 'वेंडी शरमन पांच से सात अक्तूबर तक भारत की यात्रा पर रहेंगी। बुधवार को वह विदेश सचिव से मुलाकात करेंगी। इस दौरान भारत-अमेरिका द्विपक्षीय एजेंडा तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की हाल की अमेरिका यात्रा के परिणामों की समीक्षा की जाएगी।'

मंत्रालय ने कहा कि शरमन तथा विदेश सचिव बुधवार को होने वाले अमेरिका-भारत कारोबार परिषद द्वारा आयोजित भारत विचार शिखर सम्मेलन के विशेष सत्र में हिस्सा लेंगे। शरमन का विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से मुलाकात का भी कार्यक्रम है।

अमेरिकी उप विदेश मंत्री, वेंडी शरमन मंगलवार (5 अक्टूबर) को भारत-अमेरिका द्विपक्षीय संबंधों की समीक्षा करने के साथ-साथ क्षेत्रीय और वैश्विक मुद्दों पर चर्चा करने के लिए अपनी दो दिवसीय यात्रा के लिए नई दिल्ली (भारत) पहुंचीं हैं। शरमन 7 अक्टूबर को मुंबई में रहेंगी और 5-7 अक्टूबर की भारत यात्रा के बाद पाकिस्तान के लिए रवाना होंगी।अमेरिका की उप विदेश मंत्री भारत के विदेश मंत्री एस जयशंकर और राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल से भी मुलाकात करेंगी। शरमन यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल (USIBC) द्वारा आयोजित भारत-विचार शिखर सम्मेलन के एक विशेष सत्र में भी भाग लेंगी। भारतीय विदेश मंत्रालय (MEA) ने एक बयान में यह जानकारी दी।

विदेश मंत्री एस जयशंकर के साथ अपनी बैठक में, अमेरिकी राजनयिक नियमित बातचीत करेंगे और भारत-अमेरिका व्यापक वैश्विक रणनीतिक साझेदारी को और मजबूत करने की दिशा खोजेंगे। मुंबई में, शरमन नागरिक समाज के कार्यक्रमों और यूएस इंडिया बिजनेस काउंसिल (USIBC) द्वारा आयोजित दिल्ली में इंडिया आइडियाज समिट में भाग लेने के बाद व्यापार और नागरिक समाज के भागीदारों के साथ मिलेंगी। MEA ने एक विज्ञप्ति में जानकारी दी। शरमन की यात्रा नवंबर 2021 के लिए निर्धारित बाइडन प्रशासन के तहत भारत और अमेरिका के पहले 2 + 2 शिखर सम्मेलन से पहले हो रही है।

दिल्ली पहुंचने से पहले, शरमैन ने स्विट्जरलैंड और उज्बेकिस्तान का दौरा किया, जहां उन्होंने उज्बेकिस्तान के विदेश मंत्री अब्दुलअजीज कामिलोव और ताशकंद में एक अंतर-एजेंसी प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की। उप सचिव ने उज्बेकिस्तान की स्वतंत्रता के 30वें वर्ष पर विदेश मंत्री कामिलोव और उज्बेक लोगों को बधाई दी और उन्हें अफगानिस्तान में उज्बेकिस्तान की रचनात्मक भागीदारी के लिए धन्यवाद दिया।

वहीं, पाकिस्तान के द नेशन अखबार के अनुसार, 9 सितंबर को सीआईए प्रमुख बिल बर्न्स की आधिकारिक यात्रा के बाद और जो बाइडन के राष्ट्रपति बनने के बाद इस्लामाबाद में 7 अक्टूबर से शरमैन की यात्रा पहली उच्च स्तरीय आधिकारिक यात्राओं में से एक होगी। शरमैन के इस्लामाबाद के वरिष्ठ अधिकारी के साथ बैठक करने की उम्मीद है। शरमैन की यात्रा अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन की 76वें यूएनजीए के दौरान पाकिस्तान के विदेश मंत्री महमूद शाह कुरैशी के साथ बैठक के इतर हो रही है।