एक पत्नी पीड़ित ने भी सोनू सूद से लगाई मदद की गुहार, पढ़िए क्या मिला रोचक जवाब

 


एक ट्विटर यूजर ने अभिनेता सोनू सूद से अपने ट्विटर हैंडल से मदद मांगी है।
कोरोना के दौर में तमाम कंपनियों ने अपनी कर्मचारियों को घर से ही काम करने की इजाजत दे दी लोगों का घर से बाहर निकलना एक तरह से पूरी तरह से बंद था। कुछ लोगों को इस संक्रमण से कोई डर नहीं दिख रहा था।

नई दिल्ली, कोरोना संक्रमण के दौरान देश दुनिया भर के लोग परेशान थे। सभी को घर से निकलना मना था मगर अब धीरे-धीरे हालात सामान्य हुए हैं, खैर डर अभी भी बना हुआ है। कई जगहों पर लोग सावधानी बरत रहे हैं और मास्क, सेनिटाइजर का इस्तेमाल कर रहे हैं। कोरोना के दौर में तमाम कंपनियों ने अपनी कर्मचारियों को घर से ही काम करने की इजाजत दे दी, लोगों का घर से बाहर निकलना एक तरह से पूरी तरह से बंद था। लोग बहुत ही इमरजेंसी में घर से निकल रहे थे। खैर इसी दौरान ऐसा भी देखने में आया कि कुछ लोगों को इस संक्रमण से कोई डर नहीं दिख रहा था। इंटरनेट मीडिया पर ऐसी बहुत सी तस्वीरें वायरल भी हुई थीं।

अब प्रवीन शर्मा नामक एक ट्विटर यूजर ने अभिनेता सोनू सूद से अपने ट्विटर हैंडल से मदद मांगी है। प्रवीन की ये मदद भी अपने आप में काफी रोचक है, उनकी मदद को पढ़ने के बाद अभिनेता सोनू सूद की तरफ से कुछ उसी चुटकीले अंदाज में जवाब भी दिया गया है।

प्रवीन शर्मा ने अभिनेता सोनू सूद को टैग करते हुए लिखा है कि सोनू सर् मेरी बीवी #lockdown से हमारे साथ घर में है वो अपनी माँ के घर का रास्ता भूल गयी है उसे कही छोड़ आओ । कृपया मदद करे । एक पीड़ित पति की गुहार, उनके इस ट्वीट को पढ़ने के बाद सोनू सूद की ओर से जवाब दिया गया है कि भाई, बीवी के साथ फंसे पीड़ित पतियों की लिस्ट लंबी है। इंतजार करें, आप कतार में हैं।

मालूम हो कि कोरोना संक्रमण के दौरान सोनू सूद ने मुंबई में रहने वाले यूपी, बिहार, बंगाल, झारखंड, मध्य प्रदेश और अन्य प्रदेशों में जाने वालों की खुलकर मदद की थी। इसके बाद अभी भी उनकी फाउंडेशन से मदद करने वाले गुहार लगाते रहते हैं। शायद ही कोई दिन ऐसा होता होगा जिस दिन सोनू के ट्विटर हैंडल से कोई मदद न मांगता हो और वो उसकी मदद न करते हो। ट्विटर हैंडल से उनसे जो भी मदद मांगता है वो उसकी मदद करते हैं चाहे वो एडमिशन कराना हो, दवा पहुंचाना, आपरेशन कराना हो या कुछ और। उनकी मददगार इमेज की वजह से देश भर के लोग उनसे मदद की गुहार लगाते रहते हैं।