भाजपा का आरोप, दिल्ली परिवहन निगम में संविदा पर काम कर रहे कर्मचारियों को नौकरी से हटा रही सरकार

 

दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी file photo
दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा है कि डीटीसी में संविदा पर काम कर रहे कर्मचारियों को नौकरी से हटाया जा रहा है। क्लस्टर बसों में काम करने वाले करीब छह हजार संविदा कर्मचारियों की सेवा समाप्त करने का नोटिस जारी कर दिया गया है।

नई दिल्ली। दिल्ली विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष रामवीर सिंह बिधूड़ी ने कहा है कि दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) में संविदा पर काम कर रहे कर्मचारियों को नौकरी से हटाया जा रहा है। क्लस्टर बसों में काम करने वाले करीब छह हजार संविदा कर्मचारियों की सेवा समाप्त करने का नोटिस जारी कर दिया गया है। कोरोना काल में लोगों के रोजगार चौपट हो गए हैं। इस समय दिल्लीवासियों को राहत देने की जगह लोगों को बेरोजगार किया जा रहा है। हाल ही में 54 सौ शिक्षकों को हटा दिया गया था। उसके बाद नई आबकारी नीति लागू होने से हजारों लोगों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ा है।


उन्होंने कहा कि दिल्ली में 15 हजार बसों की जरूरत है लेकिन आम आदमी पार्टी (आप) सरकार आज तक एक भी बस नहीं खरीद सकी है। मजबूरन लोग निजी वाहन से चलन को मजबूर हैं। वाहनों की भीड़ बढ़ने से वायु प्रदूषण की समस्या बढ़ रही है। बसों की कमी के कारण कर्मचारियों को नौकरी से हटाया जा रहा है।

उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार ने 54 सौ अस्थायी शिक्षकों को दोबारा नौकरी पर नहीं रखा। दिल्ली में शराब की निजी दुकानों पर काम करने वाले हजारों कर्मचारियों की नौकरी भी चली गई। उन्होंने कहा कि भाजपा कर्मचारियों के साथ ख़़ड़ी है। यदि सरकार ने अपनी नीति नहीं बदली तो भाजपा आंदोलन करने को मजबूर हो जाएगी। वहीं, इस संबंध में सरकार का पक्ष लेने की कोशिश की गई, लेकिन उपलब्ध नहीं हो सक

ा।