हापुड़ से लखीमपुर खीरी के लिए निकले सचिन पायलट, पुलिस ने इस शर्त पर दी इजाजत

 

छिजारसी टोल प्लाजा पर पुलिस के रोकने के बाद कार्यकर्ताओं से बातचीत करते सचिन पायलट
कांग्रेस नेता सचिन पायलट के काफिले को हापुड़ के छिजारसी टोल पर रोक दिया गया है। काफिला रोकने का विरोध करते हुए सचिन पायलट ने कहा कि हम कोई नियम नहीं तोड़ रहे। सरकार जबरदस्ती हमें रोक रही है।

पिलखुवा (हापुड़) । लखीमपुर खीरी जा रहे कांग्रेस नेता सचिन पायलट छिजारसी टोल प्लाजा पर रोका गया। लगभग 25 मिनट तक उनका काफिला रुका रहा। इस दौरान कांग्रेसी नेता ने कहा कि वह शांतिपूर्ण तरीके से लखीमपुर खीरी जा रहे है। इसके बावजूद पुलिस उन्हें रोक कर बार-बार परेशान कर रही है। इस दौरान कांग्रेसी कार्यकर्ताओं ने जमकर नारेबाजी की। माना जा रहा है कि पहले वह सीतापुर जाएंगे उसके बाद लखीमपुर खीरी जाएंगे।

जिलाधिकारी हापुड़ अनुज सिंह का कहना है कि सचिन पायलट को केवल बातचीत करने के लिए रोका गया था। उन्हें अवगत कराया गया था कि धारा 144 लागू है। ऐसे में उनका भीड़ के साथ जाना धारा 144 का उल्लंघन होगा। लेकिन इसके बाद सचिन पायलट ने अकेले जाने की बात कहीं। जिस पर उनके काफिले को जाने दिया गया। बता दें कि पहले राहुल गांधी और बाद में सचिन पायलट के सड़क से लखीमपुर खीरी जाने की सूचना के चलते छिजारसी टोल प्लाजा पर सुबह से ही पुलिस मुस्तैद थी।

jagran

मौके मंडलायुक्त सुरेंद्र सिंह, आइजी प्रवीण कुमार, जिलाधिकारी अनुज सिंह, पुलिस अधीक्षक दीपक भूकर सहित कई थानों को पुलिस बल तैनात रहा। दोपहर में लगभग 1:05 पर सचिन पायलट का काफिला गाजियाबाद की ओर से छिजारसी टोल प्लाजा पर पहुंचा और 1:30 पर हापुड़ की ओर रवाना हो गया। नेताओं को रोकने के मकसद से छिजारसी पुलिस चौकी पर बेरियर लगाकर वाहनों की चेकिंग की गई।इसके चलते गाजियाबाद से हापुड़ की तरफ जाने वाले वाहनों की रफ्तार रुकी रही। टोल प्लाजा पर चार से पांच किमी लंबा जाम लग गया। तेज धूप के बीच बसोें में सवार महिलाओं और बच्चों को बुरा हाल देखने को मिला। मौके पर मंडलायुक्त सुरेंद्र सिंह, आइजी प्रवीण कुमार, पुलिस अधीक्षक दीपक भूकर सहित कई थानों को पुलिस बल तैनात रहा।