सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा को हाई कोर्ट से बड़ी राहत, व्यक्तिगत पेशी से मिली छूट

व्यक्तिगत पेशी के निचली अदालत के आदेश को रुजिरा बनर्जी ने हाई कोर्ट में दी थी चुनौती
Publish Date:Mon, 11 Oct 2021 06:35 PM (IST)Author: Mangal Yadav

कोयला घोटाले से जुड़े मनी लान्ड्रिंग मामले में तृणमूल कांग्रेस सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा बनर्जी को दिल्ली हाई कोर्ट ने राहत दी है। न्यायमूर्ति योगेश खन्ना की पीठ ने रुजिरा को निचली अदालत के समक्ष 12 अक्टूबर को व्यक्तिगत तौर पर पेशी होने में छूट दी है।

नई दिल्ली]। कोयला घोटाले से जुड़े मनी लान्ड्रिंग मामले में तृणमूल कांग्रेस सांसद अभिषेक बनर्जी की पत्नी रुजिरा बनर्जी को दिल्ली हाई कोर्ट ने राहत दी है। न्यायमूर्ति योगेश खन्ना की पीठ ने रुजिरा को निचली अदालत के समक्ष 12 अक्टूबर को व्यक्तिगत तौर पर पेशी होने में छूट दी है। वहीं, पीठ ने कहा कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) की शिकायत को चुनौती देने की याचिका पर 29 अक्टूबर को सुनवाई करेगी। पीठ ने उक्त निर्देश तब दिया जब ईडी की तरफ से पेश हुए सालिसिटर जनरल तुषार मेहता ने अनुरोध किया कि मामले पर दशहरा के बाद सुनवाई करें।

वहीं, रुजिरा की तरफ से पेश हुए वरिष्ठ अधिवक्ता कपिल सिब्बल ने कहा कि उनकी मुवक्किल को उनके अधिवक्ता के माध्यम से पेश होने की अनुमति दी जाए। पीठ ने सिब्बल के अनुरोध को स्वीकार करते हुए सुनवाई 29 अक्टूबर तक के लिए स्थगित कर दी। साथ ही कहा कि इस बीच रुजिरा अपने अधिवक्ता के माध्यम से अदालत के समक्ष पेश होंगी।

ईडी की शिकायत पर सुनवाई के दौरान 30 सितंबर को रुजिरा वीडियो कान्फ्रेंसिंग के माध्यम से राउज एवेन्यू कोर्ट के समक्ष पेश हुई थी। मुख्य मेट्रोपालिटन मजिस्ट्रेट पंकज शर्मा ने रुजिरा को 12 अक्टूबर को अदालत में व्यक्तिगत रूप से पेश होने का निर्देश दिया था।

ईडी ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि उसने बार-बार समन जारी करने के बावजूद रुजिरा ने एजेंसी के सामने पेश होने से इन्कार कर दिया। अभिषेक व रुजिरा ने ईडी द्वारा जारी किए गए समन को दिल्ली हाई कोर्ट में चुनौती दी है। ईडी ने केंद्रीय जांच एजेंसी द्वारा नवंबर 2020 में दर्ज की गई रिपोर्ट के आधार पर मनी लान्ड्रिंग का मामला दर्ज किया है।