FacebooktwitterwpkooEmailaffiliates वाहन देने का झांसा देकर राशि ठगी मामले में नवादा के दो गिरफ्तार, देश के लोगों से करोड़ों की ठगी का मामला

 

ठगी के गोरख धंधे में क्षेत्र के सैकड़ों पढ़े लिखे युवक-युवतियां हो रहे शामिल 
वारिसलीगंज थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों के युवाओ में रोजगार का रूप ले चुका ठगी का धंधा अब अधिकांश गांवों में अपना पैर पसार चुकी है। इस गोरख धंधे में क्षेत्र के सैकड़ों पढ़े लिखे युवक-युवतियां शामिल होकर देश के सीधे साधे लोगों को ठगने का कार्य कर रहे हैं।

 संसू, वारिसलीगंज : मंगलवार को महाराष्ट्र के नासिक स्थित उप नगर थाना से आई पुलिस व अधिकारियों की टीम ने थाना क्षेत्र के भवानी बीघा गांव से सुरेंद्र प्रसाद के पुत्र उदित कुमार और अवधेश कुमार के पुत्र जितेंद्र कुमार को एक लाख 30 हजार रुपये ठगी करने के मामले में गिरफ्तार किया। कोर्ट के आदेश के बाद आरोपितों को महाराष्ट्र पुलिस अपने साथ ले गई। नासिक के उपनगर थाना के एसआइ महापत अधीनाथ वाटुले अपने आधा दर्जन साथियों के साथ ठगी में प्रयुक्त मोबाइल नंबर के सहारे वारिसलीगंज पहुंचे।बाद में स्थानीय पुलिस के सहयोग से आरोपित के घर छापेमारी कर दोनों ठगों को गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त किया। 

देशभर के अन्य कई राज्यों के दर्जनों लोगों से करोड़ों रुपये ठगी करने का मामला 

ठगी में प्रयुक्त सिम कार्ड और मोबाइल आरोपित के घर से बरामद किया गया है। पुलिस अधिकारी ने बताया कि उप नगर थाना में केस नंबर 153/21 दर्ज है। जिसमें दोनों ठग युवक के विरुद्ध धारा 120 के तहत प्राथमिकी दर्ज है। बताया गया कि महाराष्ट्र के एक व्यक्ति को महंगी गाड़ी देने का प्रलोभन देकर ठगों द्वारा कई किस्तों में एक लाख 30 हजार रुपये की ठगी किया गया था। कहा गया कि आरोपित द्वारा उपयोग किए जाने वाले मोबाइल के जांच बाद देशभर के अन्य कई राज्यों के दर्जनों लोगों से करोड़ों रुपये ठगी करने का मामला सामने आया है।

ठगी के इस गोरख धंधे में क्षेत्र के सैकड़ों पढ़े लिखे युवक-युवतियां हो रहे शामिल  

बता दें कि वारिसलीगंज थाना क्षेत्र के विभिन्न गांवों के युवाओ में रोजगार का रूप ले चुका ठगी का धंधा। अब अधिकांश गांवों में अपना पैर पसार चुकी है। कोरोना संक्रमण के दौरान काफी तेजी से फैलने वाली ठगी के इस गोरख धंधे में क्षेत्र के सैकड़ों पढ़े लिखे युवक-युवतियां शामिल होकर राज्य समेत देश के अन्य राज्यों के सीधे साधे लोगों को ठगने का कार्य कर रहे हैं। इस प्रकार के धंधेबाजों को समय-समय पर दूसरे राज्यों की पुलिस पकड़कर ले जाती है। बाबजूद धंधे पर विराम नहीं लग रहा है।