पूर्वी लद्दाख में ड्रैगन और पाक से तनाव के बीच SCO की एंटी टेरर एक्‍सरसाइज में भारत की दस्‍तक, क्‍या है एससीओ संगठन

पूर्वी लद्दाख में ड्रैगन और पाक से तनाव के बीच SCO की एंटी टेरर एक्‍सरसाइज में भारत की दस्‍तक।
Publish Date:Sun, 03 Oct 2021 03:58 PM (IST)Author: Ramesh Mishra

शंधाई सहयोग संगठन की एंटी टेरर एक्‍सरसाइज पाकिस्‍तान में होगी। इसमें भारत भी हिस्‍सा ले रहा है। खास बात यह है कि यह एंटी टेरर एक्‍सरसाइज ऐसे समय हो रही है जब भारत के संगठन के सदस्‍य देशों पाकिस्‍तान और चीन के साथ तनावपूर्ण रिश्‍ते चल रहे हैं।

नई दिल्‍ली, आनलाइन डेस्‍क। शंधाई सहयोग संगठन की एंटी टेरर एक्‍सरसाइज पाकिस्‍तान में होगी। इसमें भारत भी हिस्‍सा ले रहा है। खास बात यह है कि यह एंटी टेरर एक्‍सरसाइज ऐसे समय हो रही है, जब भारत के संगठन के सदस्‍य देशों पाकिस्‍तान और चीन के साथ तनावपूर्ण रिश्‍ते चल रहे हैं। इस तनाव के चलते पहले इसमें भारत की हिस्‍सेदारी को लेकर संशय बना हुआ था। ऐसे में यह जिज्ञासा लोगों के जेहन में हो रही होगी कि आखिर एससीओ क्‍या है ? इसका गठन कब हुआ ? इसका मकसद क्‍या है ? भारत को इससे क्‍या हासिल होगा ?

शुरुआत में शंघाई फाइव के नाम से जाना जाता था संगठन

दरअसल, वर्ष 1996 में शंघाई में हुई बैठक में चीन रूस, कजाकिस्‍तान, किर्गिस्‍तान और ताजिकिस्‍तान आपस में एक दूसरे के नस्‍लीय और धार्मिक तनावों से निपटने के लिए सहयोग करने पर राजी हुए थे। तब इसे शंघाई फाइव के नाम से जाना जाता था। हालांकि, एससीओ का जन्‍म 15 जून, 2001 को हुआ, तब चीन, रूस और चार मध्य एशियाई देशों कजाकस्तान, किर्गिस्तान, ताजिकिस्तान और उजबेकिस्तान के नेताओं ने शंघाई सहयोग संगठन की स्थापना की और नस्लीय और धार्मिक चरमपंथ से निबटने और व्यापार और निवेश को बढ़ाने के लिए समझौता किया।

2001 में ऊर्जा आपूर्ति और आतंकवाद बना प्रमुख एजेंडा

वर्ष 2001 में इस संगठन के उद्देश्‍यों में बदलाव आया। इस संगठन का लक्ष्‍य सदस्‍य देशों के बीच ऊर्जा आपूर्ति से जुड़े मसलों पर ध्‍यान देने के साथ आतंकवाद के खिलाफ संयुक्‍त रूप से लड़ना बन गया। स्‍थापना के बाद से ही इन मुद्दों की प्रासंगिकता आज तक बनी हुई है। संगठन के शिखर सम्‍मेलन में इन पर लगातार वार्ता होती है। गत वर्ष के शिखर सम्‍मेलन में यह तय किया गया था कि आतंकवाद से लड़ने के लिए तीन साल का एक्‍शन प्‍लान बनाए जाए। 

खास बात यह है कि एससीओ एक्सरसाइज ऐसे समय में हो रही है, जब फरवरी में दोनों पक्षों के बीच युद्धविराम समझौते पर पहुंचने के बावजूद भारत-पाकिस्तान संबंध खराब से बदतर होते जा रहे हैं। भारतीय सेना ने पाकिस्तानी कमांडरों पर पिछले महीने जम्मू-कश्मीर में घुसपैठ कराने का आरोप लगाया है। इस हफ्ते की शुरुआत में सेना ने नियंत्रण रेखा के उरी सेक्टर में एक मुठभेड़ के बाद एक पाकिस्तानी आतंकवादी को हिरासत में लिया था।