पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शिरकत, 36 महीने में बनकर हुआ तैयार; देखें तस्वीरें

 

पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की शिरकत, 36 महीने में बनकर हुआ तैयार; देखें तस्वीरें
 प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सौगात दी। सुल्तानपुर जिले के करवल खीरी में पीएम मोदी 341 किलोमीटर लंबे इस पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन किया। पीएम यहां पर पहुंच चुके हैं। तस्वीरों में देखें पूरा कार्यक्रम।

नई दिल्ली, एएनआइ। : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे की सौगात दी। सुल्तानपुर जिले के करवल खीरी में पीएम मोदी 341 किलोमीटर लंबे इस पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन किया। बता दें कि 14 जुलाई, 2018 को PM मोदी ने आजमगढ़ में इसकी आधारशिला रखी थी। इस एक्सप्रेसवे का कुल परियोजना मूल्य 22,494 करोड़ रुपये है, जिसे बनाने में करीब 36 महीने लगे हैं। लखनऊ से गाजीपुर को जोड़ने वाले 340 किलोमीटर लंबे इस एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्वी हिस्से की राजधानी लखनऊ से कनेक्टिविटी बेहतर हो जाएगी। आइए तस्वीरों में पूरे कार्यक्रम की झलक देखते हैं।प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन कर दिया। इस तस्वीर में आप देख सकते हैं कि साफ लिखा है कि पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का उद्घाटन भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कर कमलों द्वारा।

jagran

यह तस्वीर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सुल्तानपुर पहुंचने की है। 341 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करने के लिए वह लड़ाकू विमान हरक्यूलिस से यहां पर पहुंचे हjagran

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का सी-130 जे सुपर हरक्यूलिस सुल्तानपुर जिले के करवल खीरी में उतरा। यह पूर्वांचल एक्सप्रेसवे का उद्घाटन करने से पहले की तस्वीर है। 

jagran

सुल्तानपुर जिले के करवल खीरी में 341 किलोमीटर लंबे पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन समारोह कार्यक्रम के मंच पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पहुंचने की तस्वीर। 

jagran

इस तस्वीर में आप देख सकते हैं कि काफी संख्या में लोग इस कार्यक्रम को देखने के लिए पहुंचे हैं। पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे के उद्घाटन समारोह कार्यक्रम के मंच की यह तस्वीर है।

जनसभा को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि जब तीन वर्ष पहले मैंने पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का शिलान्यास किया था तब ये नहीं सोचा था कि कि एक दिन उसी एक्सप्रेस-वे पर विमान से मैं खुद उतरूंगा। एक्सप्रेस वे को बनाने में कुल 36 महीने लगे, जबकि इसमें कुल लागत 22,500 करोड़ रुपये की आई है। पूर्वी उत्तर प्रदेश को इस एक्सप्रेस वे से सीधा फायदा मिलेगा। लखनऊ से गाजीपुर तक एक्सप्रेसवे से नौ जिले जुड़ेंगे।