उद्योगपतियों ने 500 रुपये में बेची एक कप चाय, जानें क्यों लुधियाना में किया जा रहा अनूठा विरोध

 

जालंधर में बढ़ती महंगाई के विरोध में प्रदर्शन करते हुए उद्योगपति। (जागरण)
महंगाई से त्रस्त आम आदमी की स्थिति दर्शाने के लिए ही लुधियाना के उद्योगपतियों ने वीरवार को 500 रुपये प्रति कप चाय बेचकर विरोध जताया। उद्योगपति स्टील के कच्चे माल की कीमतों में बढ़ोतर की विरोध कर रहे हैं।

लुधियाना। 500 रुपये की चाय पीना आम आदमी के लिए एक सपने की तरह है। जिस हिसाब से देश में महंगाई बढ़ रही है, आने वाले दिनों में ऐसी स्थिति देखने को मिल सकती है। महंगाई से त्रस्त आम आदमी की स्थिति दर्शाने के लिए ही लुधियाना के उद्योगपतियों ने वीरवार को 500 रुपये प्रति कप चाय बेचकर विरोध जताया। उन्होंने अनोखे अंदाज में सरकार पर कटाक्ष कर महंगाई पर काबू पाने की नसीहत दी है। इससे पहले बुधवार को महानगर के उद्योगपतियों ने भीख मांगकर स्टील के दामों बढ़ोत्तरी का विरोध किया था। 

वीरवार को गिल रोड स्थित यूनाइटेड साइकिल एवं पार्ट्स मैन्यूफैक्चर्स एसोसिएशन में हड़ताल के दसवें दिन चाय की बिक्री की गई। चाय को 500 रुपये प्रति कप के हिसाब से बेचा गया। केवल तीन लोगों ने इस पांच सौ रुपये की चाय का लुफ्त उठाया। दो घंटे तक चले इस प्रदर्शन में उद्योगपति केवल तीन कप चाय ही बेच पाए। उन्होंने 1500 रुपये जुटाकर प्रधानमंत्री रिलीफ फंड के लिए भेजे। इससे पूर्व उद्योगपतियों ने बुधवार को भीख मांगकर पैसे एकत्रित किए गए थे। इसमें 3512 रुपये एकत्रित हुए थे। अब तक दो दिन में 5012 रुपये एकत्रित हो गए हैं। दोनों के ही ड्राफ्ट प्रधानमंत्री रिलीफ फंड के लिए बनवा दिए गए हैं।

एसोसिएशन के महासचिव मनजिंदर सिंह सचदेवा ने कहा कि स्टील के दामों के साथ-साथ इंडस्ट्री के कच्चे माल के दाम भी लगातार बढ़ रहे हैं। इसे रोकने के लिए सरकार को जगाने के लिए यह प्रदर्शन दसवें दिन में प्रवेश कर गया है। यह आगे भी जारी रहेगा। जब तक स्टील रेगुलेटरी अथारिटी का निर्माण नहीं किया जाता, तब तक प्रदर्शन जारी रहेगा। इस दौरान चरणजीत सिंह विश्वकर्मा, राजीव जैन, इन्द्रजीत सिंह नवयुग, वरूण कपूर, कमलइंदर सिंगला, अवतार सिंह भोगल व रजिंदर सिंह सरहाली आदि मौजूद थे।