चीन से तनाव के बीच लद्दाख में तैनात फायर एंड फ्यूरी कोर के नए कमांडर होंगे जनरल अनिंद्य सेनगुप्ता

 

फायर एंड फ्यूरी कोर के नए कमांडर होंगे जनरल अनिंद्य सेनगुप्ता। (फोटो- एएनआइ)
वास्तवीक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीन के साथ जारी सैन्य गतिरोध के बीच लेफ्टिनेंट जनरल अनिंद्य सेनगुप्ता केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में तैनात सेना की उत्तरी कमान की फायर एंड फ्यूरी कोर के नए कमांडर होंगे। इस महीने के अंत तक वह इस पद को संभाल लेंगे।

नई दिल्ली, एएनआइ। वास्तवीक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीन के साथ जारी सैन्य गतिरोध के बीच लेफ्टिनेंट जनरल अनिंद्य सेनगुप्ता केंद्र शासित प्रदेश लद्दाख में तैनात सेना की उत्तरी कमान की फायर एंड फ्यूरी कोर के नए कमांडर होंगे। इस महीने के अंत तक वह इस पद को संभाल लेंगे। वह लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन का स्थान लेंगे, जिनका जल्द ही एक वर्ष से अधिक का कार्यकाल पूरा हो जाएगा। जनरल मेनन ने कई मौकों पर पूर्वी लद्दाख में चल रहे गतिरोध को हल करने के लिए चीन के साथ वार्ता में भारत का प्रतिनिधित्व किया।

सरकारी सूत्रों ने समाचार एजेंसी एएनआइ को बताया कि लेफ्टिनेंट जनरल सेनगुप्ता फायर एंड फ्यूरी कार्प्स के अगले कमांडर के रूप में पदभार ग्रहण करने जा रहे हैं और जब भी चीन के साथ बातचीत होगी, वे भारतीय पक्ष का नेतृत्व करेंगे।लेफ्टिनेंट जनरल सेनगुप्ता वर्तमान में सेना मुख्यालय में तैनात हैं। वह पंजाब रेजीमेंट से हैं और सेना मुख्यालय में आने से पहले कश्मीर घाटी में आतंकवाद निरोधी बल की कमान भी संभाल चुके हैं।

कोर चीन और पाकिस्तान दोनों सीमाओं की देखभाल कर रहा है। ऐसे में नए कोर कमांडर, जनरल पीजीके मेनन के साथ लगभग 15 दिन बिताएंगे और क्षेत्र के हर पहलू और उससे जुड़े मुद्दों को समझेंगे। लद्दाख सेक्टर में कारगिल सेक्टर और पूर्वी लद्दाख सेक्टर दोनों शामिल हैं, जहां पिछले दो दशकों में काफी आक्रामकता देखने को मिली है। कोर सियाचिन क्षेत्र का भी प्रभारी है, जो पिछले तीन दशकों से अधिक समय से दुनिया का सबसे ऊंचा और सबसे ठंडा युद्धक्षेत्र है।भारत और चीन के बीच लगभग दो वर्षों से सैन्य गतिरोध जारी है। पिछले साल अप्रैल-मई में पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में दोनों देशों में तनाव बना हुआ है। दोनों देशों के सेनाओं के बीच झड़प भी हुई थी। गलवन घाटी में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) द्वारा किए गएसीमा