ट्रेनों के नंबर बदले, रियायतें नहीं म‍िलीं- जनरल टिकट पर अब भी यात्रा की अनुमति नहीं

 

रेलवे ने अभी यात्र‍ियों को र‍ियायत नहीं दी है। - प्रतीकात्‍मक तस्‍वीर
रेलवे बोर्ड ने भले ही एक्सप्रेस ट्रेनों के नाम से स्पेशल और नंबर से शून्य हटा दिया है। पूजा स्पेशल के नाम पर अतिरिक्त किराये को भी बंद कर दिया है। लेकिन गाड़ियों का संचालन कोविड प्रोटोकाल के आधार पर ही कर रहा है।

गोरखपुर। 15 नवंबर को रेलवे की पुरानी व्यवस्था लागू हुई तो आमजन की खुशियों का ठिकाना नहीं रहा। सोचने लगे, चलो अब स्पेशल और अतिरिक्त किराया से मुक्ति तो मिलेगी ही, सुविधाएं भी मिलनी शुरू हो जाएंगी। लेकिन उनकी खुशी रेलवे के काउंटरों पर पहुंचते ही गायब हो गई। ट्रेनों के सामान्य स्थिति में आने के बाद भी वरिष्ठ नागरिकों, छात्रों, दिव्यांगों और रेलकर्मियों को कोविड से पहले की सहूलियतें शुरू ही नहीं हुई हैं। लोगों को किराये और सीट व बर्थ में मिलने वाली रियायतों के लिए अभी इंतजार करना पड़ेगा।

अभी भी कोविड प्रोटोकाल के आधार पर ही हो रहा है एक्सप्रेस ट्रेनों का संचालन, 

रेलवे बोर्ड ने भले ही एक्सप्रेस ट्रेनों के नाम से स्पेशल और नंबर से शून्य हटा दिया है। पूजा स्पेशल के नाम पर अतिरिक्त किराये को भी बंद कर दिया है। लेकिन गाड़ियों का संचालन कोविड प्रोटोकाल के आधार पर ही कर रहा है। अभी भी एक्सप्रेस ट्रेनों में आरक्षित टिकट ही मान्य है। जनरल कोेचों के टिकट भी आरक्षित ही बुक हो रहे हैं। जनरल टिकट पर यात्रा की अनुमति नहीं है। इसको लेकर यात्री ही नहीं कर्मचारी संगठनों में भी रोष है। एनई रेलवे मजदूर यूनियन के महामंत्री केएल गुप्त और पूर्वोत्तर रेलवे कर्मचारी संघ के महामंत्री विनोद कुमार राय ने एक्सप्रेस ट्रेनों में भी जनरल टिकट व कोविड काल से पहले मिलने वाली सुविधाओं को यथाशीघ्र फिर से शुरू करने की मांग की है।

जानकारों का कहना है कि बोर्ड ने रियायतों पर इसलिए रोक लगाई है कि कम से कम लोग यात्रा करें और सुरक्षित रहें। लेकिन ट्रेनों में तो लगातार भीड़ बढ़ती जा रही है। छठ पर्व के दौरान गोरखपुर जंक्शन पर 40 की जगह एक लाख लोगों का आवागमन होने लगा। पूर्वोत्तर रेलवे में 70 जोड़ी एक्सप्रेस ट्रेनें चल रही हैं।

स्पेशल के रूप में चल रही हैं पैसेंजर ट्रेनें

अभी पैसेंजर ट्रेनों (सवारी गाड़ियों) के नाम से स्पेशल और नंबर से शून्य नहीं हटा है। पैसेंजर ट्रेनें अभी भी स्पेशल के रूप में ही चल रही हैं। एक्सप्रेस का किराया भी लग रहा है। पूर्वोत्तर रेलवे में 75 जोड़ी पैसेंजर ट्रेनें चल रही हैं।

वर्ष 2021 की समय-सारिणी में शामिल मेल/एक्सप्रेस स्पेशल एवं हाली डे स्पेशल गाड़ियां नियमित नंबर से चलाई जा रही है। इन ट्रेनों का किराया कोविड के पूर्व की भांति ही लग रहा है। आने वाले समय में कोविड की स्थिति को ध्यान में रखते हुए और भी सहूलियतें प्रदान की जाएंगी। मेल/एक्सप्रेस ट्रेनों में कन्फर्म टिकट पर ही यात्रा कर सकेंगे। स्टेशन परिसर में एवं यात्रा के दौरान मास्क लगाना अनिवार्य है। - पंकज कुमार सिंह, मुख्य जनसंपर्क अधिकारी- पूर्वोत्तर रेलवे