उज्जैन में महिला से दुष्कर्म, बच्चे को जन्म देने के लिए किया मजबूर

 

मध्य प्रदेश के उज्जैन में महिला से दुष्कर्म, बच्चे को जन्म देने के लिए किया मजबूर। फाइल फोटो
 पुलिस ने उज्जैन में काठ बड़ौदा गांव के पूर्व उप सरपंच राजपाल सिंह को महाराष्ट्र की एक महिला को 16 महीने तक बंदी बनाकर रखने उसके साथ दुष्कर्म करने और उसे बच्चा पैदा करने के लिए मजबूर करने के आरोप में गिरफ्तार किया।

उज्जैन, प्रेट्र। महिला को कथित तौर पर बंदी बनाकर उससे दुष्कर्म करने और बच्चे को जन्म देने के लिए मजबूर करने का मामला सामने आया है। घटना मध्य प्रदेश के उज्जैन की है। पुलिस ने शुक्रवार को यह जानकारी दी। पुलिस अधीक्षक (एसपी) सत्येंद्र शुक्ला ने कहा कि पुलिस ने गुरुवार को उज्जैन में काठ बड़ौदा गांव के पूर्व उप सरपंच राजपाल सिंह (38) को महाराष्ट्र की एक महिला को 16 महीने तक बंदी बनाकर रखने, उसके साथ दुष्कर्म करने और उसे बच्चा पैदा करने के लिए मजबूर करने के आरोप में गिरफ्तार किया। यह मामला तब सामने आया, जब नागपुर की रहने वाली महिला देवास गेट बस स्टैंड पर मिली, यहां छह नवंबर को राजपाल उसे बेहोशी की हालत में फेंक दिया था। होश में आने पर पीड़िता ने गुरुवार को पुलिस को अपनी आपबीती की सूचना दी।

महिला की मदद से पीड़िता को खरीदा

पुलिस ने बताया कि राजपाल सिंह ने कथित तौर पर एक महिला की मदद से पीड़िता को खरीदा और 16 महीने पहले उसे उज्जैन लाया। एसपी ने कहा कि राजपाल सिंह ने अपनी पत्नी चंद्रकांता (26) के साथ कथित तौर पर पीड़िता को बंदी बना लिया और एक बच्चे के लिए उसके साथ दुष्कर्म किया, क्योंकि दंपती ने अपने दो बच्चों को खो दिया था। इसके बाद पीड़िता ने 25 अक्टूबर को एक बच्चे को जन्म दिया। इसके बाद छह नवंबर को उसे बस स्टैंड पर छोड़ दिया। पुलिस ने इस संबंध में दंपती के अलावा राजपाल सिंह के रिश्तेदार वीरेंद्र, कृष्ण पाल और एक दलाल के रूप में काम करने वाले अर्जुन के खिलाफ भी मामला दर्ज किया है। पुलिस ने बताया कि राजपाल ने पीड़िता को किस कीमत पर खरीदा है, इसकी जांच के लिए एक पुलिस टीम नागपुर भेजी जाएगी और अन्य चार आरोपितों की गिरफ्तारी के प्रयास जारी हैं। पुलिस इस मामले के हर पहलू की जांच कर रही है।