सिवान में छठ महापर्व को लेकर बाजारों में बढ़ी चहल-पहल, लौकी की कीमत में भारी उछाल

 

सिवान में छठ महापर्व को लेकर खरीदारी करते लोग। जागरण
सिवान में छठ महापर्व को लेकर बाजारों में काफी भीड़ देखी जा रही है। छठ व्रत करने वाले लोग सामनों की खरीदारी कर रहे हैं। आम की लकड़ी 20 से 25 रुपए प्रतिकिलो बिक रही तो वहीं एक लोकी 45 से 100 रुपये तक बिकी।

सिवान,सं। प्रकाशोत्सव का पर्व दीपावली समाप्त होते ही लोक आस्था का महापर्व सूर्य षष्ठी व्रत के उपयोग में आने वाले सामान से बाजार में रौनक बढ़ गई है। छठ व्रत करने वाले लोगों ने सामानों की खरीदारी भी शुरू कर दी है। आठ से कार्तिक का छठ महापर्व शुरू हो रहा है। इस बार यह सोमवार को कार्तिक मास की शुक्ल चतुर्थी से शुरू होगा। दूसरे दिन मंगलवार को खरना मनाया जाएगा। तीसरे दिन बुधवार को शाम में जल में खड़े होकर डूबते सूर्य को अघ्र्य दिया जाएगा। वहीं गुरुवार को सप्तमी की सुबह तड़के जल में प्रवेश कर उगते सूर्य को अघ्र्य दिया जाएगा। पर्व को लेकर तैयारी शुरू कर दी गई है। पूजा सामग्री से दूकानें सज गईं हैं। व्रतधारियों द्वारा जमकर खरीदारी की जा रही है।

बाजारों में सज गईं हैं अस्थायी दुकानें 

शहर के सब्जी मंडी, थाना रोड, बड़ी मस्जिद रोड, गल्ला मंडी, श्रद्धानंद बाजार, श्रीनगर में छठ पर्व के लिए अस्थाई दुकानें लग गई हैं। दुकानदारों ने यहां कलसूप, फल, सब्जी व पूजन के लिए इस्तेमाल होने वाले सामान सजा रखे हैं। वहीं दुकानदारों ने बताया कि पानी वाले नारियल से लेकर हल्दी, अरवी और बड़ा नींबू (गागल) बिकना शुरू हो गया है। छठ पूजा के लिए विशेष रूप से दउरा, कलसूप व माला, सूथनी, टाप नींबू, छोटा नींबू, अदरक और हल्दी पात, नारियल, अनानास, गन्ना, धूप की लकड़ी व कलश की मांग रहती है।

45 से 100 रुपये तक बिकी लौकी 

अभी व्रती सूखने वाले फलों सहित अन्य सामग्रियों की खरीदारी ना कर अनुष्ठान के समय से लगने वाले वस्तुओं की खरीदारी ज्यादा कर रहे थे। साठी का चावल, सादा चावल, लौकी, आम की लकड़ी, सेंधा नमक की व्यवस्था में लगे रहे। बाजार में जहां आम की लकड़ी 20 से 25 रुपए प्रतिकिलो बिक रही थी, वही लौकी 45 से 100 रुपए प्रति पीस बिक रही है।

बांस के बने सूप, डलिया व ढकिया की बढ़ी डिमांड 

शहर से लेकर ग्रामीण क्षेत्रों में स्थित बाजारों में लोग भगवान भास्कर को अघ्र्य के लिए बांस के बने सूप, डलिया, ढकिया और नारियल की खरीदारी करने में जुट गए है। वहीं बाजार में बांस के बने सूप, डलिया व ढ़किया की डिमांड काफी ज्यादा बढ़ गई है। मन्नतोंं का पर्व कहे जाने वाले छठ पूजा में इन सामानों का बड़ा हीं महत्व है। हालांकि बांस की दामों में हो रही बढ़ोत्तरी और इसकी आपूर्ति में कमी के कारण लोग पीतल के  ढ़किया, कोनिया आदि अन्य सामान की खरीदारी कर रहे हैं।

सामग्रियों की बाजार दर 

  • गागल नींबू     35 से 40 रुपए जोड़ा

  • नासपाती        30 से 40 रुपए जोड़ा  

  • सुथनी            80 रुपए प्रति किलोग्राम 

  • अरुई            80 रुपए प्रति किलोग्राम

  • सरीफा          30 रुपए प्रति किलोग्राम

  • अदरक         80 रुपए प्रति किलोग्राम

  • हल्दी           80 रुपए प्रति किलोग्राम

  • चूड़ा            60 रुपए प्रति किलोग्राम

  • मूली             20 से 30 रुपए प्रति किलोग्राम

  • नारियल        30 से 40 रुपये पीस

  • अनार   120 रुपए प्रति किलोग्राम

  • संतरा          100 रुपए प्रति किलोग्राम

  • सेब             60 से 150 रुपए प्रति किलोग्राम