भाजपा की राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में पारित किया गया राजनीतिक प्रस्ताव, चुनावों की तैयारी पर होगा मंथन

 

भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की यह बैठक दो साल बाद हो रही है।
कार्यकारिणी की इस बैठक में हाल के उपचुनाव परिणामों पर विचार-विमर्श करने और आगामी विधानसभा चुनावों की रणनीति पर निर्णय लेने की उम्मीद है। बैठक में पीएम मोदी अमित शाह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शामिल हुए हैं।

नई दिल्ली, एएनआइ। भाजपा राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक नई दिल्ली नगरपालिका परिषद (एनडीएमसी) के कन्वेंशन सेंटर में हो रही है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह, राजवनाथ सिंह और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ इसमें शामिल हैं। वहीं, पार्टी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी और मुरली मनोहर जोशी वर्चुअल रूप से जुड़े हैं। देश में 100 करोड़ टीकीकरण के लक्ष्य को हासिल करने पर पार्टी के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्षों ने पीएम मोदी को सम्मानित किया। 

लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव में मिले झटके के बाद राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में अगले साल पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों की रणनीति पर गहन चर्चा की जाएगी। भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण, रेल मंत्री अश्विनी वैष्णव, केंदीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी, केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर, हरदीप सिंह पुरी, पूर्व केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा हर्षवर्धन, केंद्रीय मंत्री भूपेंद्र यादव भी राष्ट्रीय राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में शामिल हुए। राष्ट्रीय कार्यकारिणी की यह बैठक दो साल बाद हो रही है। कोरोना संक्रमण के चलते 2019 के बाद यह बैठक नहीं हो सकी थी।

जेपी नड्डा के उद्घाटन भाषण के साथ बैठक शुरू हुई है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के भाषण के साथ समाप्त होगी। इस बैठक में पार्टी के 124 सदस्य शामिल होंगे, जबकि मुख्यमंत्री और 36 राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों में प्रदेश अध्यक्षों के नेतृत्व में राज्य इकाइयां डिजिटल माध्यम से राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक से जुड़ेंगी।। वर्ष 2022 में सात राज्यों गोवा, मणिपुर, पंजाब, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश और गुजरात में विधानसभा चुनाव होने हैं।

भाजपा महासचिव अरुण सिंह ने कहा, 'इस बैठक में एक राजनीतिक प्रस्ताव भी पारित किया जाएगा। साथ ही, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मणिपुर, गोवा और पंजाब के विधानसभा चुनावों की तैयारी पर विशेष चर्चा होगी और मंथन होगा। इसके अलावा पार्टी के आगामी कार्यक्रमों को लेकर भी चर्चा होगी।' उन्होंने बताया कि कोरोना के चलते जिन नेताओं व लोगों की असमय मौत हुई है, उन्हें श्रद्धांजलि देने के साथ ही एक शोक प्रस्ताव भी पारित होगा।