चीन की अंतरिक्ष यात्री वांग यांपिंग ने रचा इतिहास, अंतरिक्ष में चहलकदमी करने वाली बनीं पहली महिला

 

चीन की पहली महिला ने अंतरिक्ष में की चहलकदमी
चीन ने 16 अक्टूबर को शेनझोउ-13 अंतरिक्ष यान को लान्च किया था जिसमें तीन अंतरिक्ष यात्रियों को छह महीने के मिशन पर निर्माणाधीन अंतरिक्ष स्टेशन भेजा गया है। अंतरिक्ष स्टेशन को अगले साल तक तैयार हो जाने की उम्मीद की जा रही है।

बीजिंग, पीटीआइ। चीन की महिला अंतरिक्ष यात्री वांग यापिंग सोमवार को अंतरिक्ष में चहलकदमी करने वाली पहली चीनी महिला बन गईं है। उन्होंने इतिहास के पन्नों में अपना नाम दर्ज करवा लिया है। वांग ने अपने पुरुष सहयोगी झाई झिगांग के साथ निर्माणाधीन अंतरिक्ष स्टेशन से बाहर छह घंटे से अधिक समय तक निर्माण संबंधी कार्यों को अंजाम दिया।

समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, सोमवार सुबह दोनों अंतरिक्ष यात्री तियानहे नामक स्पेस स्टेशन कोर मॉड्यूल से बाहर निकलकर 6.5 घंटे तक अंतरिक्ष में चहलकदमी की और सफलतापूर्वक माड्यूल में वापस लौट आए। चीन की अंतरिक्ष एजेंसी ने एक बयान में कहा कि यह चीनी अंतरिक्ष इतिहास में एक महिला अंतरिक्ष यात्री का स्पेसवाक करना पहला मामला है।

चीन ने 16 अक्टूबर को शेनझोउ-13 अंतरिक्ष यान को लान्च किया था, जिसमें तीन अंतरिक्ष यात्रियों को छह महीने के मिशन पर निर्माणाधीन अंतरिक्ष स्टेशन भेजा गया है। अंतरिक्ष स्टेशन को अगले साल तक तैयार हो जाने की उम्मीद की जा रही है।

शेडोंग प्रांत के मूल निवासी और पांच साल की बच्ची की मां वांग अगस्त 1997 में पीपुल्स लिबरेशन आर्मी एयर फोर्स में शामिल हुईं और मई 2010 में पीएलए एस्ट्रोनाट डिवीजन में अंतरिक्ष यात्रियों के दूसरे समूह में शामिल होने से पहले डिप्टी स्क्वाड्रन कमांडर के रूप में कार्य किया। मार्च 2012 में वह जून 2013 में नौवें मानवयुक्त शेनझोउ मिशन के लिए बैकअप क्रू का हिस्सा थीं और वह अंतरिक्ष में उड़ान भरने वाली दूसरी चीनी महिला हैं।

वांग यापिंग को दिसंबर 2019 में वर्तमान मानवयुक्त अंतरिक्ष मिशन के लिए चुना गया था। तीनों अंतरिक्ष यात्रियों को 16 अक्टूबर को अंतरिक्ष स्टेशन में छह महीने के लंबे मिशन के लिए अंतरिक्ष में भेजा गया था, जो चीन के अंतरिक्ष इतिहास में सबसे लंबा मानव मिशन है। चीन के अंतरिक्ष स्टेशन के लिए यह दूसरा मानवयुक्त मिशन है, जो निर्माणाधीन है। इससे पहले, तीन अन्य अंतरिक्ष यात्री - नी हैशेंग, लियू बोमिंग और टैंग होंगबो अंतरिक्ष स्टेशन में तीन महीने तक रहने के बाद 17 सितंबर को पृथ्वी पर लौटे थे।