विकास न होने पर फूटा धर्मशाला नगर निगम के पार्षदों का गुस्सा

 

शहर में विकास न होने पर पार्षदों का गुस्सा आमसभा की बैठक में फूटा।
शहर में विकास न होने पर पार्षदों का गुस्सा आमसभा की बैठक में फूटा। महापौर ओंकार नैहरिया की अध्यक्षता में नगर निगम धर्मशाला की सवा तीन घंटें लंबी महासभा की बैठक चली। बैठक में शुरूआत से ही पार्षदों ने अपना रोष जाहिर करना शुरू कर दिया।

धर्मशाला, संवाद सहयोगी। शहर में विकास न होने पर पार्षदों का गुस्सा आमसभा की बैठक में फूटा। महापौर ओंकार नैहरिया की अध्यक्षता में नगर निगम धर्मशाला की सवा तीन घंटें लंबी महासभा की बैठक चली। बैठक में शुरूआत से ही पार्षदों ने अपना रोष जाहिर करना शुरू कर दिया। मामला चाहे सफाई व्यवस्था का हो या फिर शहरियों को मिलने वाली दूसरी अन्य सुविधाओं का हर एक मामले में पार्षदों ने अपनी ओर से सवाल खड़े किए।

जिस पर भाजपा और कांग्रेस के पार्षद आपस में उलझ भी पड़े। करीब 15 मिनट तक उनमें बहसबाजी चलती रही। हालांकि जिस सवाल पर भाजपा व कांग्रेस के पार्षद उलझे थे वह भूमि अलाटमेंट से संबंधित मामला था। जिसमें स्वयं आयुक्त और महापौर को हस्तक्षेप कर पार्षदों को शांत करना पड़ा। बैठक में स्टाफ की कमी के कारण थमे विकास के पहिया को लेकर भी सभी पार्षदों में यह सहमति बनी की अब वह सभी एकत्र होकर मुख्यमंत्री कार्यालय पहुंचकर मांग को बुलंद करेंगे। इसके लिए उन्होंने 20 नवंबर तक का समय भी प्रदेश सरकार को दे दिया है। यदि इस समयावधि में प्रदेश सरकार की ओर से स्टाफ नहीं मिलता है तो सभी पार्षद मुख्यमंत्री कार्यालय जाकर मांग उठाएंगे।

भूमिगत कूड़ेदानों की सफाई न होने पर तल्ख हुए जग्गी

पिछले चार माह से भूमिगत कूड़ेदानों की सफाई न होने से पूर्व महापौर देवेंद्र जग्गी आमसभा में तल्ख दिखे। उन्होंने साफ किया कि निगम का सबसे पहला काम सफाई व्यवस्था का है, लेकिन पिछले चार माह से भूमिगत कूड़ेदानों की सफाई नहीं हो रही है। इस दिशा में अधिकारियों को जल्द कदम उठाए जाने की जरूरत है। उन्होंने साफ किया आए दिन लोग उनसे इस संबंध में शिकायत करते हैं। उन्होंने हिदायत दी की यदि वाहन खराब है तो उसे ठीक कराया जाए। इस पर आयुक्त ने आश्वास्त किया जल्द व्यवस्था सुधारी जाएगी। साथ ही उन्होंने जानकारी दी कि वार्ड दो व तीन की सफाई का जिम्मा संभालने वाली कंपनी छोड़ गई है और अब सीएलसी को कार्य सौंपा। अभी तक व्यवस्था ठीक चल रही है। जिस पर पूर्व महापौर जग्गी ने सुझाव रखा कि इस संबंध में बकायदा सूची जारी की जाए, जिससे पार्षदों को पूरी जानकारी हो।

Popular posts
आमना शरीफ ने ब्लैक ब्रालेट पहन बीच पर 'बोल्ड' अंदाज में किया पोज, तस्वीरें देख ट्रोलर्स ने कहा, 'आप कहां की शरीफ है'
Image
अयान मुखर्जी ने शेयर कीं 'ब्रह्मास्त्र' की शूटिंग की 5 तस्वीरें, तीसरी तस्वीर से लीक हुआ रणबीर कपूर के पौराणिक किरदार का लुक?
Image
दिल्ली में बर्बाद हो चुकी फसल के लिए किसानों को मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार, भाजपा ने लिया क्रेडिट
Image
खुद को पानी और आग आग का मिश्रण मानती हैं ईशा सिंह, 'सिर्फ तुम' से डेढ़ साल बाद लौटीं टीवी पर
Image
सिर्फ 9 लाख रुपये में ग्रेटर नोएडा में पाएं अपना घर, जानिये- कीमत, ड्रा और पजेशन के बारे में
Image