कुमार विश्वास ने प्रदूषित यमुना के लिए किसे ठहराया जिम्मेदार और वायु प्रदूषण के मुद्दे पर किस राज्य पर कसा तंज

 

कुमार विश्वास ने कहा कि इस बार वायु प्रदूषण की जिम्मेदारी हरियाणा की होगी क्योंकि पंजाब में चुनाव है।
सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद अब पटाखों पर तो बैन लग गया है। यमुना में गंदे नालों का पानी उसी तरह से गिर रहा है साथ ही हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने पर भी पूरी तरह से रोक नहीं लग पाई है जिसका नतीजा साफ दिखाई पड़ता है।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। दिल्ली को यमुना के प्रदूषण से निजात नहीं मिल पा रही है। इसी के साथ हर साल दीवाली के मौके पर पंजाब, हरियाणा और दिल्ली में पराली जलाए जाने पर जो वायु प्रदूषण होता है उसका खामियाजा अलग से भुगतना पड़ता है। ऐसे मौके पर दीवाली के दौरान जलाए जाने वाले पटाखे उसमें और भी बढ़ोतरी कर देते थे। मगर सुप्रीम कोर्ट की सख्ती के बाद अब पटाखों पर तो बैन लग गया है मगर बाकी चीजें यथावत जारी है। यमुना में गंदे नालों का पानी उसी तरह से गिर रहा है, साथ ही हरियाणा और पंजाब में पराली जलाने पर भी पूरी तरह से रोक नहीं लग पाई है जिसका नतीजा साफ दिखाई पड़ता है।

मालूम हो कि बीते दो-तीन दिनों से यमुना में अमोनिया की मात्रा में इजाफा हो गया है, यमुना में सफेद-सफेद झाग बड़े पैमाने पर तैरते हुए देखे जा सकते है। कवि कुमार विश्वास भी दो दिनों से इस चीज को देख रहे हैं और अपनी टिप्पणी कर रहे हैं। रविवार को समाचार एंजेसी एएनआइ के एक ट्वीट को रिट्वीट करते हुए उन्होंने लिखा था कि दिल्ली को एक और “फ़्री” सुविधा के लिए बधाई।अब तो यमुना में बादल भी उतार दिए, गली-गली मुफ़्त का नरक कोविड के दौरान दिखा ही दिया था।टैक्सपेयर्स के पैसे पर TV में कालनेमि-लाइव देखा ही होगा।अब पंजाब में यही कौशल दिखाने का अवसर दें “स्वराज-शिरोमणि लघुकाय आत्ममुग्ध धूर्तेश्वर” को। उनकी इस टिप्पणी को पढ़ने वाला आसानी से ये समझ सकता है कि उनका इशारा किसकी तरफ था। उसके बाद उन्होंने इसी एजेंसी की ओर से कालिंदी कुंज पर यमुना घाट में उमड़ रहे झाग की वीडियो को रिट्वीट किया गया था।

अब मंगलवार को उन्होंने एक फोटो के साथ एक नया ट्वीट किया, इसमें लिखा है कि भगीरथ जी स्वर्ग से गंगा, बादलों के जिस मार्ग से उतार कर लाए थे “लघुकाय-लंपट” जी, यमुना जी को उसी रास्ते दिल्ली ले आएँ हैं, और वो भी “मुफ़्त” (और हाँ,इस बार वायु-प्रदूषण की ज़िम्मेदारी हरियाणा के किसानों पर रहेगी, पंजाब वालों पर नहीं,क्यूँकि वहाँ कुछ महीनों में चुनाव हैं)