तालिबान ने अफगान सरकार में दो दर्जन से अधिक उच्च स्तरीय अधिकारियों को किया शामिल

 

तालिबान ने अफगान सरकार में दो दर्जन से अधिक उच्च स्तरीय अधिकारियों को किया शामिल
तालिबान ने मंगलवार को अफगान सरकार में दो दर्जन से ज्यादा अधिकारियों को शामिल किया है। अंतरिम सरकार के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा कि नियुक्तियां तालिबान के सर्वोच्च नेता मुल्ला हैबतुल्ला अखुंदजादा के आदेश के बाद की गई हैं।

काबुल, एएनआइ। तालिबान ने मंगलवार को अफगान सरकार में दो दर्जन से ज्यादा अधिकारियों को शामिल किया है। अंतरिम सरकार के प्रवक्ता जबीहुल्ला मुजाहिद ने कहा कि नियुक्तियां तालिबान के सर्वोच्च नेता मुल्ला हैबतुल्ला अखुंदजादा के आदेश के बाद की गई हैं। समाचार एजेंसी पझवोक अफगान न्यूज ने बताया की सरकार में मंत्रियों और उप मंत्रियों सहित दो दर्जन से अधिक उच्च स्तरीय अधिकारियों के शामिल होने की घोषणा की गई है।

सौपें गए पदभार

आफगान सरकार में शामिल हुए लोगों की नियुक्ति के बारे में अफगान समाचार एजेंसी ने बताया कि मौलवी शहाबुद्दीन डेलावर को खान और पेट्रोलियम के कार्यवाहक मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया है, जबकि मुल्ला मोहम्मद अब्बास अखुंद को आपदा प्रबंधन के कार्यवाहक मंत्री की भूमिका सौपीं गई है। जबीहुल्ला मुजाहिद द्वारा जारी की गई सूची में 25 अन्य लोगों के नाम शामिल हैं, जिन्हें उप मंत्री, कोर कमांडर और स्वतंत्र विभागों के प्रमुख के रूप में नियुक्त किया गया है, जिसमें जेल निदेशक, सीमा और आदिवासी मामलों के उप मंत्री और कंधार हवाई अड्डे के प्रमुख शामिल हैं।

आपको बता दें की पिछले महीने के अंत में, तालिबान ने संयुक्त राज्य अमेरिका और अन्य देशों से अफगानिस्तान में अपनी सरकार को मान्यता देने का आग्रह किया था और कहा कि ऐसा ना करना और विदेशों में अफगान फंड को लगातार रोकने से न केवल देश के लिए बल्कि दुनिया के लिए समस्याएं पैदा होगी। जबीहुल्लाह मुजाहिद ने इतिहास याद दिलाते हुए कहा कि पिछली बार तालिबान और अमेरिका के बीच युद्ध का कारण यह भी था कि दोनों के बीच औपचारिक राजनयिक संबंध नहीं थे।

अशरफ गनी के नेतृत्व वाली सरकार को पराजित कर अफगानिस्तान पर कब्जा करने के बाद से किसी भी देश ने अफगानिस्तान में अंतरिम तालिबान सरकार को औपचारिक रूप से मान्यता नहीं दी है, हालांकि, अब जाकर कई देशों के वरिष्ठ सरकारी अधिकारी काबुल और विदेशों में तालिबान नेतृत्व के साथ शांति और सहायता सौदों के लिए बैठक कर रहे हैं।