चेन्नई, कांचीपुरम सहित आसपास के जिलों में भारी बारिश को लेकर रेड अलर्ट जारी

 

चेन्नई, कांचीपुरम सहित आसपास के जिलों में भारी बारिश को लेकर रेड अलर्ट जारी
मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में और ज्यादा भारी बारिश की संभावना के चलते चेन्नई सहित आसपास के जिलों में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। मौसम विभाग ने बताया है कि 17 नवंबर और 18 नवंबर को कम दबाव (low pressure)के बाद मूसलाधार बारिश हो सकती है।

चेन्नई, आइएएनएस। तमिलनाडु की राजधानी चेन्नई में भीषण बारिश से बुरा हाल है। बारिश का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा। मौसम विभाग ने आने वाले दिनों में भारी बारिश की संभावना के चलते चेन्नई सहित आसपास के जिलों में रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। मौसम विभाग ने बताया है कि 17 नवंबर और 18 नवंबर को कम दबाव (low pressure) के बाद चेन्नई, कांचीपुरम, तिरुवल्लूर और चेंगलपट्टू जिलों में मूसलाधार बारिश हो सकती है। ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन के अधिकारियों रेड अलर्ट की चेतावनी के बाद अपनी कमर कस ली है।

मौसम विभाग ने की भविष्यवाणी

चेन्नई व अन्य आसपास के जिलों में लगातार हो रही बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त है। मौसम विभाग ने भविष्यवाणी की है कि भारी बारिश धीरे-धीरे कम दबाव वाले तटों पर पहुंच रही है, जिसके कारण 18 नवंबर की रात तक चेन्नई और आसपास के जिलों में मूसलाधार बारिश हो सकती है। मौसम विज्ञानियों ने कहा कि चेन्नई और उससे सटे आसपास के जिलों में अलग-अलग इलाकों में बारिश हो सकती है। इसके चलते बुधवार और गुरुवार को 20 मिमी बारिश होने की उम्मीद जताई गई है।

मौसम विभाग ने यह भी बताया है कि चेन्नई, कांचीपुरम, तिरुवल्लूर और चेंगलपट्टू जिलों में अगले दो दिनों में चक्रवाती तूफान आने की संभावना है। तेज हवाओं के साथ मौसम खराब बना रहेगा। हवा की गति 40 किमी प्रति घंटे से 50 किमी प्रति घंटे तक पहुंच सकती है और दो दिनों के लिए 60 किमी प्रति घंटे की तेज़ गति को छू सकती है। चक्रवाती तूफान निम्न दबाव के साथ बंगाल की खाड़ी के ऊपर है और 18 नवंबर तक यह दक्षिण आंध्र प्रदेश और उत्तरी तमिलनाडु तट तक पहुंच सकता है।

भारी बारिश से बिगड़े हालत

चेन्नई और आसपास के जिलों में भारी बारिश से हालत बिगड़े जा रहे हैं। जलभराव और बाढ़ के कारण, करीब 848 लोग राहत शिविरों में रह रहे हैं जबकि ग्रेटर चेन्नई कॉरपोरेशन ने लोगों को वापस उनके घरों में स्थानांतरित करने के लिए कदम उठा रहा है। चेन्नई के नौ स्थानों की 16 सड़कों पर पानी भर गया वहीं दूसरी तरफ रंगराजपुरम मेट्रो में भी पानी भर गया है।