बूस्टर डोज को लेकर कोविड टास्क फोर्स ने कहा, जल्द जारी किया जाएगा नीति दस्तावेज

कई देशों में तीसरी डोज लगाने की चल रही तैयारी
देश में कोविड -19 वैक्सीन की बूस्टर खुराक देने पर एक नीति दस्तावेज जारी किया जाएगा। यह जानकारी देश के कोविड टास्क फोर्स के एक प्रमुख सदस्य ने दी है। उन्होंने कहा भारत जल्द ही कोविड-19 वैक्सीन की बूस्टर खुराक (तीसरी खुराक) देने पर एक नीति दस्तावेज जारी करेगा।

नई दिल्ली, एजेंसी। दुनियाभर में कोरोना महामारी का कहर अभी खत्म नहीं हो पाया है। कई देशों में कोरोना के खिलाफ बूस्टर यानी वैक्सीन की तीसरी डोज को लगाने की तैयारी चल रही है। भारत भी इस दिशा में आगे बढ़ रहा है। देश में कोविड -19 वैक्सीन की बूस्टर खुराक देने पर एक नीति दस्तावेज जारी करेगा। यह जानकारी देश के कोविड टास्क फोर्स के एक प्रमुख सदस्य ने दी है। उन्होंने कहा है कि भारत जल्द ही कोविड -19 वैक्सीन की बूस्टर खुराक (तीसरी खुराक) देने पर एक नीति दस्तावेज जारी करेगा।

बूस्टर डोज को लेकर क्या है विशेषज्ञों की राय

विशेषज्ञों ने चिंता जताते हुए कहा है कि आने वाले समय में अगर कोरोना वायरस में बदलाव होता है तो कोविड रोधी वैक्सीन की बूस्टर डोज की आवश्यकता होगी। दरअसल इस साल कोरोना के डेल्टा वैरिएंट ने देश में काफी तबाही मचाई थी और अभी भी कई देशों में इसका कहर जारी है। ऐसे में विशेषज्ञों ने चिंता व्यक्त की है और उनका मानना है कि अगर आने वाले वक्त में वायरस में म्यूटेशन यानी बदलाव होता है तो उससे बचने के लिए लोगों को कोरोना वैक्सीन की बूस्टर डोज की जरूरत होगी। भारत बायोटेक के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक डा. कृष्णा एला ने कहा है कि यदि आने वाले दिनों में कोरोना वायरस में फि‍र कोई नया बदलाव होता है तो लोगों को कोविड रोधी वैक्‍सीन की बूस्टर डोज की जरूरत होगी। समाचार एजेंसी एएनआइ से बात करते हुए उन्होंने कहा कि यदि कोरोना का कोई नया वैरिएंट आता है और वैक्‍सीन की बूस्टर डोज की जरूरत पड़ती है तो इसे फास्ट ट्रैक के आधार पर कैसे वितरित किया जा सकता है हम उस पर काम कर रहे हैं। ऐसे में विभिन्न रणनीतियों को समाहित किया जा सकता है।