पुडुचेरी और लद्दाख में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले, केंद्र ने पत्र लिखकर आवश्यक कदम उठाने को कहा

 

पुडुचेरी और लद्दाख में बढ़ रहे कोरोना संक्रमण के मामले।
कोरोना संक्रमण के मामलों में वृद्धि टेस्टिंग और पाजिटिविटी रेट को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पुडुचेरी और लद्दाख को पत्र लिखकर स्थिति पर नियंत्रण हासिल करने के लिए उचित कदम उठाने का आग्रह किया है ।

नई दिल्ली, पीटीआइ। कोरोना संक्रमण के मामलों में वृद्धि, टेस्टिंग और पाजिटिविटी रेट को देखते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने पुडुचेरी और लद्दाख को पत्र लिखकर स्थिति पर नियंत्रण हासिल करने के लिए कदम उठाने का आग्रह किया है। इससे पहले मंत्रालय ने हिमाचल प्रदेश, आंध्र प्रदेश और जम्मू-कश्मीर की को कोरोना के बढ़ते मामलों और विकली पाजिटिविटी रेट को देखते हुए समीक्षा करने और टेस्टिंग बढ़ाने के लिए कहा था।

इस सप्ताह लद्दाख के प्रमुख सचिव (स्वास्थ्य) को लिखे पत्र में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव आरती आहूजा ने कहा कि केंद्र शासित प्रदेश में साप्ताहिक नए मामलों में 362 फीसद की वृद्धि दर्ज हुई है। 27 अक्टूबर के आंकड़ों के अनुसार एक सप्ताह में 34 मामले सामने आए थे। वहीं 17 नवंबर के आंकड़ों के अनुसार एक सप्ताह में 157 मामले सामने आए। यह भी ध्यान देने की बात है कि केंद्र शासित प्रदेश में विकली पाजिटिविटी रेट में 156 फीसद से अधिक की वृद्धि हुई है। 26 अक्टूबर तक यह दर 1.5  थी। अब 16 नवंबर को  बढ़कर 3.9 फीसद हो गई है। 

इसके अलावा, विभिन्न जिलों में एक साप्ताह में सामने आए मामले, टेस्टिंग और पाजिटिविटी रेट चिंता का विषय है। लेह जिले में एक साप्ताह में नए मामलों में 362 फीसद से अधिक की वृद्धि देखी गई है। 27 अक्टूबर के आंकड़ों के अनुसार एक  सप्ताह में 35 सामने आए थे। 17 नवंबर के आंकड़ों के अनुसार एक सप्ताह में 139 मामले सामने आए।

लेह में विकली पाजिटिविटी रेट में 143 फीसद की वृद्धि हुई है। यह 26 अक्टूबर के आंकड़ों के अनुसार 1.98 फीसद थी। अब 16 नवंबर के आंकड़ों के अनुसार 4.81 फीसद हो गई है। हालांकि केंद्र शासित प्रदेश में टेस्टिंग बढ़ी है, लेकिन आरटी-पीसीआर टेस्ट में कमी देखी गई है। अधिकारी ने केंद्र शासित प्रदेश को अधिक से अधिक संख्या में आरटी-पीसीआर टेस्ट करने की सलाह दी है।

30 अक्टूबर को, आहूजा ने पश्चिम बंगाल और असम को पत्र लिखकर कोरोना के मामलों में वृद्धि को लेकर चिंता व्यक्त की थी। आहूजा ने पुडुचेरी के प्रधान सचिव (स्वास्थ्य) को लिखे अपने पत्र में कहा कि सप्ताह में नए मामलों में 41.7 प्रतिशत की वृद्धि हुई है।  9 नवंबर के आंकड़ों के अनुसार एक हफ्ते में 168 मामले सामने आए थे। वहीं 16 नवंबर की रिपोर्ट के अनुसार एक सप्ताह में 238 मामले सामने आए। उन्होंने कहा कि राज्य के विभिन्न जिलों में हफ्ते में सामने आए मामले और पाजिटिविटी रेट को लेकर चिंताजनक रुझान देखने को मिली  है। चार में से तीन जिलों ने साप्ताहिक नए मामलों में वृद्धि दर्ज की है। हालांकि, टेस्टिंग में वृद्धि हुई है, लेकिन एंटीजन और आरटीपीसीआर टेस्ट में काफी असमानता देखने को मिली है।