र किसी देश ने भारत की तरफ आंख उठाकर देखा तो मुंहतोड़ जवाब मिलेगा रक्षामंत्री ने वीरवार को रेजांग ला बैटल डे पर चुशुल में नए रेजांग ला वार मेमोरियल का उद्घघाटन किया। रक्षामंत्री ने वीरवार को पूर्वी लद्दाख के चुशुल में चीन के सामने वीरवार को रेजांग ला बैटल डे पर चुशुल में नए रेजांग ला वार मेमोरियल का उद्घघाटन किया। रक्षामंत्री ने कहा कि भारत ने कभी किसी देश की जमीन पर कब्जा करने की नीयत कभी नही रखी। जम्मू, राज्य ब्यूरो। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम है। अगर किसी देश ने भारत की ओर आंख उठाकर भी देखा तो उसे मुंहतोड़ जवाब मिलेगा। रक्षामंत्री ने वीरवार को पूर्वी लद्दाख के चुशुल में चीन के सामने वीरवार को रेजांग ला बैटल डे पर चुशुल में नए रेजांग ला वार मेमोरियल का उद्घघाटन किया। रेजांग ला के वीरों को श्रद्धांजलि देने के बाद रक्षामंत्री ने कहा कि भारत ने कभी किसी देश की जमीन पर कब्जा करने की नीयत कभी नही रखी। किसी देश ने ऐसा दुस्साहस किया तो हमारी ओर से उसे कड़ा जवाब दिया गया। रक्षामंत्री के साथ इस मौके पर चीफ आफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत व सेना की उत्तरी कमान के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी भी मौजूद थे।

 

रक्षामंत्री ने वीरवार को रेजांग ला बैटल डे पर चुशुल में नए रेजांग ला वार मेमोरियल का उद्घघाटन किया।
रक्षामंत्री ने वीरवार को पूर्वी लद्दाख के चुशुल में चीन के सामने वीरवार को रेजांग ला बैटल डे पर चुशुल में नए रेजांग ला वार मेमोरियल का उद्घघाटन किया। रक्षामंत्री ने कहा कि भारत ने कभी किसी देश की जमीन पर कब्जा करने की नीयत कभी नही रखी।

जम्मू, राज्य ब्यूरो। रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि भारतीय सेना देश की हर एक इंच जमीन की रक्षा करने में सक्षम है। अगर किसी देश ने भारत की ओर आंख उठाकर भी देखा तो उसे मुंहतोड़ जवाब मिलेगा।

रक्षामंत्री ने वीरवार को पूर्वी लद्दाख के चुशुल में चीन के सामने वीरवार को रेजांग ला बैटल डे पर चुशुल में नए रेजांग ला वार मेमोरियल का उद्घघाटन किया। रेजांग ला के वीरों को श्रद्धांजलि देने के बाद रक्षामंत्री ने कहा कि भारत ने कभी किसी देश की जमीन पर कब्जा करने की नीयत कभी नही रखी। किसी देश ने ऐसा दुस्साहस किया तो हमारी ओर से उसे कड़ा जवाब दिया गया। रक्षामंत्री के साथ इस मौके पर चीफ आफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत व सेना की उत्तरी कमान के वरिष्ठ सैन्य अधिकारी भी मौजूद थे।


रक्षामंत्री ने रेजांग ला के वीरों को श्रद्धांजलि देते हुए कहा कि 1962 की लड़ाई में वीरगति को प्राप्त हुए सैनिकों को समर्पित नया युद्ध स्मारक सेना के दृढ़ संकल्प और अदम्य साहस की मिसाल है। यह केवल इतिहास के पन्नो में ही अमर नहीं है, बल्कि हमारे दिलों में भी धड़कता है।

रक्षामंत्री ने कहा कि रेजांगला का ऐतिहासिक युद्ध 18,000 फीट की ऊँचाई पर जिन विषम परिस्थितियों में लड़ा गया उसकी कल्पना करना भी मुश्किल है। मेज़र शैतान सिंह व उनके साथी सैनिक ‘आखिरी गोली और आखिरी साँस’ तक लड़े। उन्हाेंने बहादुरी और बलिदान का नया अध्याय लिखा। रेजांग ला पहुंचकर मैने उन 114 बहादुर सैनिकों की स्मृतियों को नमन किया जिन्होंने लद्दाख़ की दुर्गम पहाड़ियों 1962 की लड़ाई में सर्वोच्च बलिदान दिया था। रक्षामंत्री ने कहा कि रेज़ांग ला का युद्ध, विश्व की दस सबसे अधिक चुनौतीपूर्ण सैन्य संघर्षों में से एक है।

Popular posts
अयान मुखर्जी ने शेयर कीं 'ब्रह्मास्त्र' की शूटिंग की 5 तस्वीरें, तीसरी तस्वीर से लीक हुआ रणबीर कपूर के पौराणिक किरदार का लुक?
Image
दिल्ली में बर्बाद हो चुकी फसल के लिए किसानों को मुआवजा देगी केजरीवाल सरकार, भाजपा ने लिया क्रेडिट
Image
खुद को पानी और आग आग का मिश्रण मानती हैं ईशा सिंह, 'सिर्फ तुम' से डेढ़ साल बाद लौटीं टीवी पर
Image
आमना शरीफ ने ब्लैक ब्रालेट पहन बीच पर 'बोल्ड' अंदाज में किया पोज, तस्वीरें देख ट्रोलर्स ने कहा, 'आप कहां की शरीफ है'
Image
सिर्फ 9 लाख रुपये में ग्रेटर नोएडा में पाएं अपना घर, जानिये- कीमत, ड्रा और पजेशन के बारे में
Image