खुशखबरी: पीएम मोदी एवं सीएम योगी करेंगे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास, यहां जानिए तारीख

 

पीएम मोदी एवं सीएम योगी करेंगे नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास
दिल्ली-एनसीआर के लोगों के लिए एक खुशखबरी है। यह अच्छी खबर आ रही है नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से। शिलान्यास को लेकर लंबे अरसे से चले आ रहे ऊहापोह की स्थिति अब खत्म होने वाली है। मिल रही ताजा जानकारी के अनुसार नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास 25 नवंबर को होगा।

ग्रेटर नोएडा: दिल्ली-एनसीआर के लोगों के लिए एक खुशखबरी है। यह अच्छी खबर आ रही है नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट से। शिलान्यास को लेकर लंबे अरसे से चले आ रहे ऊहापोह की स्थिति अब खत्म होने वाली है। मिल रही ताजा जानकारी के अनुसार नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट का शिलान्यास 25 नवंबर को होगा। इस एयरपोर्ट का शिलान्यास प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी एवं उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ करेंगे।

jagran

अभी क्या है वर्तमान स्थिति

नोएडा एयरपोर्ट के वर्तमान स्थिति की बात की जाए तो फिलहाल इसकी चारदीवारी का काम चल रहा है। इसके लिए विकासकर्ता कंपनी को काम करने की अनुमति मिल गई है। इसके लिए नियाल (नोएडा इंटरनेशनल एयरपोर्ट लिमिटेड) ने कंपनी को कुछ जमीन भी सौंपने गई है। वहीं, इसके लिए 1334 हेक्टेयर जमीन अधिगृहीत की गई है।इस जमीन का लाइसेंस 40 साल के लिए दे दिया है।

नोएडा एयरपोर्ट की कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने के लिए लगातार सरकार प्रयास कर रही

बता दें कि जेवर में बन रहे नोएडा एयरपोर्ट की कनेक्टिविटी को बेहतर बनाने के लिए लगातार काम हो रहा है। पीएम की महात्वाकांक्षी योजना हाइस्पीड रेल के साथ मेट्रो एवं सड़क से इसको जोड़ा जाएगा। इसके लिए कई स्तर की तैयारी चल रही है।ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस वे, यमुना एक्सप्रेस वे से जोड़ने के लिए इंटरचेंज बनाए जाएंगे। इससे पश्चिम उत्तर प्रदेश व हरियाणा से एयरपोर्ट की सीधे सड़क कनेक्टिविटी मिलेगी। दिल्ली मुंबई एक्सप्रेस वे से एयरपोर्ट को जोड़ने के लिए जमीन अधिग्रहण का काम शुरू हो चुका है।

जनता के लिए 2023-2024 से शुरू करने की लक्ष्य

बता दें कि इस एयरपोर्ट को जनता के लिए 2023-2024 से शुरू करने की लक्ष्य रखा गया है। इधर जमीन अधिग्रहण के दौरान इस परियोजना से प्रभावित परिवार को जेवर के बांगर में बसाया भी जा रहा है। सरकार इसके लिए काम कर रही है। एयरपोर्ट का काम तेजी से चलता रहे पैसी की कमी का सामना नहीं करना पड़े इसके लिए एसबीआ से इसे ऋण भी मिला है। पहले चरण की लागत करीब 5730 करोड़ होगी इसके लिए बैंक से 3725 करोड़ रुपये ऋण मिल चुका है।