भारतीय नौसेना को एक और सौगात, INS विशाखापत्तनम के बाद अब INS वेला बल में होगी शामिल

 

Indian Navy to commission fourth stealth scorpene class submarine INS Vela
राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर भारतीय नौसेना युद्धपोतों और पनडुब्बियों की संख्या में तेजी से इजाफा कर रहा है। नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह आईएनएस वेला पनडुब्बी 25 नवंबर को आधिकारिक तौर देश की नौसेना को सौपेंगे। वेला को बल में शामिल करने के कार्यक्रम मुंबई के नौसेना डाकयार्ड में होंगे।

नई दिल्ली, एजेंसियां: राष्ट्रीय सुरक्षा के मद्देनजर भारतीय नौसेना युद्धपोतों और पनडुब्बियों की संख्या में तेजी से इजाफा कर रहा है। बीते रविवार देश के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आईएनएस विशाखापत्तनम भारतीय नौसेना को सौंपा था और अब नौसेना को चौथी कलवारी श्रेणी की पनडुब्बी आईएनएस वेला की सौगात मिलने जा रही है। नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह आईएनएस वेला पनडुब्बी 25 नवंबर को आधिकारिक तौर देश की नौसेना को सौपेंगे। वेला को बल में शामिल करने के कार्यक्रम मुंबई के नौसेना डाकयार्ड में होंगे।

विरोधियों के दांत खट्टे करने में सक्षम

आईएनएस वेला 75 मीटर लंबा है और इसका वजन 1615 टन है। इसमें 35 नाविक और 8 अधिकारी बैठ सकते हैं। यह पनडुब्बी समुद्र के नीचे 37 किलोमीटर (20 नॉटिकल मील) तक चल सकती है। यह पनडुब्बी समुद्र के नीचे एक चक्कर में 1020 किमी (550 नॉटिकल मील) की दूरी तय कर सकती है और 50 दिनों तक समुद्र में रह सकती है। INS वेला विरोधी जहाजों पर हमला करने के लिए 18 टॉरपीडो से लैस है। यह पनडुब्बी भी मिसाइलों से लैस है।

उच्च तकनीक का नमूना

आईएनएस वेला को मुंबई के मझगांव डॉकयार्ड में स्थापित किया गया है। इससे पहले आईएनएस कलवारी, आईएनएस खंडेरी और आईएनएस करंज भारतीय नौसेना में शामिल हुए थे। इन सभी पनडुब्बियों को फ्रेंच स्कॉर्पियन क्लास की पनडुब्बियों की तकनीक पर बनाया गया है, जिन्हें दुनिया की सबसे बेहतरीन पनडुब्बियों में से एक माना जाता है।

समूद्री क्षमता बढ़ाने की कवायद

कुछ दिनों पहले आईएनएस विशाखापत्तनम को भारतीय नौसेना को सौंपा गया था। यह युद्धपोत पूरी तरह से स्वदेशी है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने 21 नवंबर को औपचारिक रूप से आईएनएस विशाखापत्तनम को भारतीय नौसेना में शामिल किया। युद्धपोत का निर्माण अक्टूबर 2013 में शुरू हुआ था। कहा जाता है कि इस युद्धपोत का वजन 7400 टन है। आईएनएस विशाखापत्तनम की कुल लंबाई ट्रेन के 7 डिब्बों की लंबाई के बराबर 535 फीट है। यह भारतीय नौसेना का पहला PB15 स्टील्थ गाइडेड मिसाइल विध्वंसक है। इसमें भारत का सबसे शक्तिशाली मिसाइल सिस्टम लगा है। इनमें ब्रह्मोस और बराक मिसाइलें शामिल हैं। आईएनएस विशाखापत्तनम दुश्मन के जहाजों को देखते ही मिसाइल दागकर दुश्मन को तबाह कर सकता है।