भारत-फ्रांस की आतंकवाद-रोधी बैठक, अलकायदा-ISIS सहित कई संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने पर जोर

 

भारत-फ्रांस की आतंकवाद-रोधी बैठक, अलकायदा-ISIS सहित कई संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने पर जोर
आतंकवाद को रोकने के लिए भारत और फ्रांस के बीच बैठक हुई। इस आतंकवाद-रोधी बैठक में भारत-फ्रांस ने जोर देते हुए आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने पर जोर दिया है। इसके तबत अल-कायदा आईएसआईएस/दाएशलश्कर-ए-तैयबा और जैश-ए मोहम्मद शामिल है।

नई दिल्ली, एएनआइ। आतंकवाद को रोकने के लिए भारत और फ्रांस के बीच बैठक हुई। इस आतंकवाद-रोधी बैठक में भारत-फ्रांस ने जोर देते हुए आतंकवादी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने पर जोर दिया है। बैठक के बाद विदेश मंत्रालय द्वारा जारी किए गए बयान के मुताबिक, दोनों देशों ने कहा कि उनके नियंत्रण वाले क्षेत्रों का उपयोग आतंकवादी हमलों की योजना बनाने या आतंकवादियों को पनाह देने/प्रशिक्षित करने के लिए नहीं किया जा सकता है। इसके तहत अल-कायदाआईएसआईएस/दाएश  लश्कर-ए-तैयबा  और जैश-ए मोहम्मद और हिज़्ब-उल मुजाहिदीन जैसे आतंकी संगठनों के खिलाफ कार्रवाई करने की आवश्यकता पर जोर दिया।


अफगानिस्तान पर हुई बातचीत

इसके साथ ही दोनों पक्षों ने अपने-अपने क्षेत्रों में आतंकवादी खतरे का आकलन किया और यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता को भी रेखांकित किया कि अफगान क्षेत्र कट्टरपंथ, आतंकवाद का स्रोत नहीं बन जाता है। दोनों देशों की यह बैठक फ्रांस की राजधानी पेरिस में हुई। अब इस आतंकवाद विरोधी संयुक्त अगली बैठक 2022 में भारत में होगी।