विश्व कप में कप्तान केन विलियमसन ने चली MS Dhoni वाली चाल, कर गई काम

MS Dhoni और Kane Williamson (फाइल फोटो आइसीसी)
 में न्यूजीलैंड के कप्तान केन विलियमसन ने वही चाल चली जो 2013 की आइसीसी चैंपियंस ट्राफी में भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने चली। दोनों की ये चाल काम आई है।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। अगर आप क्रिकेट को फालो करते हैं तो आपको याद होगा कि साल 2013 की आइसीसी चैंपियंस ट्राफी में भारतीय टीम के कप्तान महेंद्र सिंह धौनी ने रोहित शर्मा से ओपनिंग कराने का फैसला किया था। साल 2007 में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में डेब्यू कर चुके रोहित शर्मा मध्य क्रम में नीचे खेलते थे और अपनी छाप नहीं छोड़ पा रहे थे, लेकिन जैसे ही उनको टाप आर्डर में प्रमोट किया गया तो उनकी और टीम इंडिया की किस्मत ही बदल गई। ऐसी ही एक चाल आइसीसी टी20 विश्व कप में न्यूजीलैंड टीम के कप्तान केन विलियमसन ने चली।

दरअसल, केन विलियमसन ने एक ऐसे बल्लेबाज से टूर्नामेंट में ओपनिंग कराई है, जो अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में कभी चार नंबर पर तो कभी 5 या 6 नंबर पर बल्लेबाजी करता था। हालांकि, जैसे ही इस खिलाड़ी को प्रमोट किया गया तो उसने साबित कर दिया कि वो नई गेंद पर देखकर प्रहार कर सकता है और टीम के लिए उपयोगी हो सकता है। ये बल्लेबाज कोई और नहीं, बल्कि डैरिल मिचेल हैं, जो टी20 विश्व कप 2021 में टीम के लिए मैच विनर बनकर उभरे हैं। खासकर सेमीफाइनल मैच में उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ जो पारी खेली, वो कई मायनों में अद्भुत थी।

इंग्लैंड के खिलाफ टी20 विश्व कप 2021 के सेमीफाइनल मैच में न्यूजीलैंड की टीम 167 रनों का पीछा कर रही थी। न्यूजीलैंड को एक के बाद एक झटका लगा रहा था, लेकिन दूसरे छोर पर डैरिल मिचेल थे। यहां तक उन्होंने 40 गेंदों में 46 रन बनाए ते, लेकिन अगली सात गेंदों में उन्होंने मैच का रुख बदल दिया था। वे 47 गेंदों में 4 चौके और 4 छक्कों की मदद से 72 रन बनाने में सफल हुए थे। अपनी पारी की आखिरी सात गेंदों में उन्होंने 26 रन जोड़े थे। जीत की बुनियाद और मैच खत्म करने के लिए ये रन काफी थे, जो टीम के काम आए।

इस टी20 विश्व कप में एक भी बार ऐसा मौका नहीं आया जब डैरिल मिचेल दहाई का आंकड़ा पार नहीं कर पाए हों। उन्होंने पाकिस्तान के खिलाफ 27, भारत के खिलाफ 49, स्काटलैंड के खिलाफ 13, नामीबिया के खिलाफ 19, अफगानिस्तान के खिलाफ 17 और इंग्लैंड के खिलाफ नाबाद 72 रन बनाए हैं। वहीं, इस टूर्नामेंट से पहले वे पांच बार ही 15 मैचों में दहाई का आंकड़ा पार कर सके थे। उस समय वे मध्य क्रम में बल्लेबाजी करते थे, जहां उनको सिर्फ ताबड़तोड़ पारी खेलनी होती थी और वे ज्यादातर मौकों पर असफल हो जाते थे।

Popular posts
आमना शरीफ ने ब्लैक ब्रालेट पहन बीच पर 'बोल्ड' अंदाज में किया पोज, तस्वीरें देख ट्रोलर्स ने कहा, 'आप कहां की शरीफ है'
Image
रकुल प्रीत सिंह ने पहनी इतनी छोटी स्कर्ट, बैठते वक्त कैमरे में कैद हुआ Oops Moment, भड़के यूजर्स ने सिखाया बैठने का ढंग!
Image
सांसदों के हंगामे पर राज्‍यसभा के सभापति और लोकसभा अध्‍यक्ष ने की मुलाकात, कहा- दोषी सांसदों के खिलाफ होगी कार्रवाई
Image
सोनभद्र में भौंरों ने बकरी चराने गए बच्‍चों पर किया हमला, एक की मौत, आधा दर्जन गंभीर
Image
ब्रह्मास्त्र' के सेट पर दिखी आलिया और रणबीर कपूर की शानदार केमिस्ट्री, अयान मुखर्जी ने कही ये बात
Image