Paytm का 18300 करोड़ रुपये का IPO पूरी तरह हुआ सब्सक्राइब, विदेशी संस्थागत निवेशकों ने हाथों- हाथ लिया

 

Paytm Rupees 18300 Crore IPO Fully Subscribed by Noon on Final Day
विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने क्यूआइबी के लिए आरक्षित 2.63 करोड़ शेयरों के मुकाबले 4.17 करोड़ शेयरों के लिए बोलियां लगाई। खुदरा निवेशकों ने अपने लिए आरक्षित 87 लाख शेयरों से 1.46 गुना ज्यादा शेयरों के लिए आवेदन किया।

नई दिल्ली, पीटीआइ। डिजिटल पेमेंट कंपनी पेटीएम का 18,300 करोड़ रुपये आइपीओ बुधवार को पूरी तरह सब्सक्राइब हो गया। विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआइआइ) ने इसे हाथों हाथ लिया। शेयर बाजार से मिली जानकारी के अनुसार, पेटीएम की मूल कंपनी वन97 कम्यूनिकेशंस लिमिटेड के प्रारंभिक सार्वजनिक निर्गम (आइपीओ) को 4.83 करोड़ शेयरों के प्रस्ताव के मुकाबले 5.24 करोड़ शेयरों के लिए बोलियां मिलीं। शुरुआती दो दिन के दौरान आइपीओ को लेकर बहुत ज्यादा उत्साह नहीं दिखाने वाले योग्य संस्थागत खरीदारों (क्यूआइबी) ने भी इसमें रुचि दिखाई और अपने लिए आरक्षित शेयरों से 1.59 गुना ज्यादा शेयरों के लिए बोलियां लगाई।विदेशी संस्थागत निवेशकों (एफआईआई) ने क्यूआइबी के लिए आरक्षित 2.63 करोड़ शेयरों के मुकाबले 4.17 करोड़ शेयरों के लिए बोलियां लगाई। खुदरा निवेशकों ने अपने लिए आरक्षित 87 लाख शेयरों से 1.46 गुना ज्यादा शेयरों के लिए आवेदन किया। वहीं गैर संस्थागत निवेशकों ने अपने लिए आरक्षित 1.31 करोड़ शेयरों में से केवल आठ प्रतिशत के लिए बोलियां दीं।

लैटेंट व्यू एनालिटिक्स ने एंकर निवेशकों से जुटाए 267 करोड़ रुपये

एंकर निवेशकों से 267 करोड़ रुपये जुटाने वाली लेटेंट व्यू एनालिटिक्स का आइपीओ बुधवार को पहले दिन ही ओवर सब्सक्राइब हो गया। बता दें कि मंगलवार को, कंपनी ने 34 एंकर निवेशकों को 197 रुपये वाले प्रत्येक शेयर के कुल 13,553,898 इक्विटी शेयर आवंटित करने का फैसला किया था। यह 267 करोड़ रुपये के बराबर है।

आइपीओ के जरिये 6,250 करोड़ रुपये जुटाएगी एपीआइ होल्डिंग्स

आनलाइन फार्मेसी प्लेटफार्म फार्मईजी के मालिकाना हक वाली कंपनी एपीआइ होल्डिंग्स ने आइपीओ के जरिये 6,250 करोड़ रुपये जुटाने के लिए बाजार नियामक सेबी के पास प्रारंभिक दस्तावेज जमा कर दिए हैं। यह धन शेयरों को नए सिरे से जारी करके जुटाया जाएगा। कंपनी 1,250 करोड़ रुपये के इक्विटी शेयरों के निजी प्लेसमेंट पर विचार कर सकती है। यदि आइपीओ से पहले प्लेसमेंट किया जाता है, तो इश्यू का आकार कम हो जाएगा। कंपनी आइपीओ से होने वाली शुद्ध आय का इस्तेमाल 1,929 करोड़ रुपये के बकाया ऋण को चुकाने सहित अन्य उद्देश्यों के लिए करेगी।