वर्ष 2022 में भी जेईई मेंस चार सत्रों में होगी आयोजित, एनटीए ने दिए संकेत

 

इंजीनियर‍िंग में प्रवेश से जुड़ी संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई ) मेंस
इंजीनियर‍िंग में प्रवेश से जुड़ी संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई ) मेंस वर्ष 2022 में भी चार सत्रों में आयोजित होगी। पहला सत्र फरवरी में होगा जबकि दूसरा मार्च तीसरा अप्रैल और अंतिम व चौथा सत्र मई में आयोजित होगा।

 नई दिल्ली, ब्यूरो। इंजीनियर‍िंग में प्रवेश से जुड़ी संयुक्त प्रवेश परीक्षा (जेईई ) मेंस वर्ष 2022 में भी चार सत्रों में आयोजित होगी। पहला सत्र फरवरी में होगा, जबकि दूसरा मार्च, तीसरा अप्रैल और अंतिम व चौथा सत्र मई में आयोजित होगा। कोरोना संकट के बरकरार रहने और छात्रों की क्लासरूम पढ़ाई के लगातार बाधित रहने जैसे कारणों को देखते हुए एनटीए ( नेशनल टेस्टिंग एजेंसी) ने जेईई मेंस को वर्ष 2022 में भी चार सत्रों में कराने के संकेत दिए है। फिलहाल इसकी अधिकारिक घोषणा जल्द होने की उम्मीद है।

फरवरी में पहले सत्र की होगी परीक्षा, इसके बाद मार्च, अप्रैल और मई में होंगे बाकी सत्र

इसके साथ ही जेईई मेंस के पहले सत्र के लिए रजिस्ट्रेशन का काम भी जनवरी के पहले हफ्ते से शुरू हो सकता है। फिलहाल इसकी तैयारी तेजी से चल रही है। एनटीए से जुड़े सूत्रों की मानें तो जेईई मेंस 2022 का आयोजन पूरी तरह से वर्ष 2021 की तरह ही होगा। जिसमें परीक्षा के ज्यादा से ज्यादा केंद्र रहेंगे। साथ ही कोरोना से जुड़ा पूरा प्रोटोकाल भी रहेगा। यह पूरी परीक्षा कम्प्यूटर बेस होती है, ऐसे में छात्रों को परीक्षा के दौरान जो कम्प्यूटर या लैपटाप दिए जाएंगे, वह पूरी तरह से सैनीटाइज रहेंगे। खास बात यह है कि जेईई मेंस के प्रदर्शन आधार पर ही छात्रों को आइआइटी में प्रवेश के लिए होने वाली परीक्षा जेईई एडवांस में शामिल होने का मौका मिलता है।

एनटीए जल्द कर सकता है अधिकारिक घोषणा

फिलहाल अभी तक जेईई एडवांस से जुड़े कार्यक्रम को लेकर स्थिति साफ नहीं है, लेकिन माना जा रहा है कि यदि प्रस्तावित योजना के तहत जेईई मेंस का अंतिम सत्र मई में हो जाता है तो जुलाई में एडवांस भी हो जाएगी। हालांकि यह बहुत कुछ कोरोना संक्रमण की स्थिति पर निर्भर करेगा। गौरतलब है कि वर्ष 2021 में भी जेईई मेंस की चार सत्रों में आयोजित की गई थी। इसमें भी पहला पत्र फरवरी में आयोजित किया गया था, जबकि बाकी सत्र मार्च,अप्रैल और मई महीने में प्रस्तावित थे। लेकिन कोरोना संक्रमण में तेजी आ जाने के चलते बाद के दो सत्र को आगे बढा दिया था। जिसकी परीक्षा बाद में जुलाई और अगस्त में करायी गई थी। वहीं जेईई एडवांस सितंबर में आयोजित हुई थी।