मुंबई पुलिस ने बांबे हाई कोर्ट में कहा, कंगना रनोट को 25 जनवरी तक नहीं किया जाएगा गिरफ्तार

 

कंगना रनोट को 25 जनवरी तक गिरफ्तार नहीं किया जाएगा: मुंबई पुलिस। फाइल फोटो
मुंबई पुलिस ने बांबे हाई कोर्ट में कहा कि अभिनेत्री कंगना रनोट को कृषि कानून विरोधी प्रदर्शन का संबंध अलगाववादी समूह से बताने से जुड़े इंटरनेट मीडिया पोस्ट के मामले में 25 जनवरी तक गिरफ्तार नहीं किया जाएगा।

मुंबई, प्रेट्र। महाराष्ट्र में मुंबई पुलिस ने सोमवार को बांबे हाई कोर्ट में कहा कि अभिनेत्री कंगना रनोट को कृषि कानून विरोधी प्रदर्शन का संबंध अलगाववादी समूह से बताने से जुड़े इंटरनेट मीडिया पोस्ट के मामले में 25 जनवरी तक गिरफ्तार नहीं किया जाएगा। पुलिस ने जस्टिस नितिन जामदार और सारंग कोतवाल की पीठ के सामने यह आश्वासन दिया। इससे पहले पीठ ने कहा कि यह मुद्दा अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बुनियादी अधिकार से जुड़ा है और अदालत को अभिनेत्री को कुछ अंतरिम राहत देनी होगी। कंगना ने इस महीने की शुरुआत में हाई कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था। उन्होंने एक सिख संगठन की शिकायत के बाद इस साल नवंबर में मुंबई के खार थाने में अपने खिलाफ दर्ज एफआइआर रद करने की मांग की।

वकील रिजवान सिद्दीकी के जरिये दायर याचिका में कंगना ने कहा है कि हालांकि शिकायतकर्ता ने 21 नवंबर के उनके इंस्टाग्राम पोस्ट पर आपत्ति की है। लेकिन उनके खिलाफ कोई कानूनी मामला नहीं बनता है। एएनआइ के अनुसार, बांबे हाई कोर्ट ने कंगना को सिख समुदाय के खिलाफ कथित अपमानजनक पोस्ट की जांच के सिलसिले में 22 दिसंबर को मुंबई पुलिस के सामने पेश होने का निर्देश दिया। इससे पहले पुलिस ने अदालत को बताया कि अभिनेत्री जांच को लेकर सहयोग नहीं कर रही हैं।

जावेद अख्तर ने की गैर जमानती वारंट जारी करने की मांग

पटकथा लेखक और गीतकार जावेद अख्तर ने सोमवार को अंधेरी मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट की अदालत से मानहानि मामले में कंगना रनोट के खिलाफ गैर जमानती वारंट जारी करने की मांग की। वकील जय भारद्वाज के जरिये दाखिल आवेदन में अख्तर ने कहा है कि अभिनेत्री ने इस साल मार्च से अब तक एक के बाद दूसरा कारण बताकर कई बार छूट की मांग की है।

गौरतलब है कि अभिनेत्री कंगना रनोट ने इंटरनेट मीडिया पर कथित घृणास्पद पोस्ट के मामले में दिल्ली विधानसभा की शांति और सद्भाव समिति के सामने पेश होने के लिए और समय मांगा था। उन्हें गत सोमवार को समिति के समक्ष पेश होने का नोटिस दिया गया था। विधानसभा की शांति व सद्भाव समिति के अध्यक्ष और आम आदमी पार्टी के नेता राघव चड्ढा ने सोमवार को बताया कि कंगना के वकील ने पत्र भेजकर जानकारी दी है कि कुछ निजी और पेशेवर कारणों की वजह से कंगना आज समिति के सामने पेश नहीं हो सकतीं। उन्होंने कुछ सप्ताह का और समय मांगा है। चड्ढा ने कहा कि समिति के सामने पेश होने के लिए दूसरी तारीख बाद में तय की जाएगी, जिसके बारे में उन्हें सूचित कर दिया जाएगा। समिति के सामने पेश होने को लिए कंगना को पिछले महीने नोटिस जारी किया गया था। कंगना को किसानों के ऊपर कथित घृणास्पद पोस्ट करने के आरोप में नोटिस जारी किया गया था। कंगना के खिलाफ समिति को शिकायत मिली है।