41 साल की उम्र में 'टर्बनेटर' हरभजन सिंह ने क्रिकेट को कहा अलविदा, मैदान पर नहीं दिखेगा अब वो जोश

 


हरभजन सिंह ने 41 साल की उम्र में क्रिकेट को अलविदा कहा (फाइल- फोटो)

t क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में टीम इंडिया का प्रतिनिधित्व करने वाले हरभजन सिंह हालांकि राष्ट्रीय टीम से लंबे वक्त से दूर चल रहे थे लेकिन अब जाकर उन्होंने ये फैसला किया और हर तरह की क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी।

नई दिल्ली, आनलाइन डेस्क। भारतीय हिन्दी फिल्म का एक मशहूर गीत है 'हुजूर आते-आते बहुत देर कर दी' और ये बात टीम इंडिया के टर्बनेटर हरभजन सिंह पर पूरी तरह से फिट बैठता है। हरभजन ने 25 मार्च 1998 को भारत के लिए डेब्यू किया था और जिन खिलाड़ियों के साथ वो खेले उनमें से ज्यादातर क्रिकेट को अलविदा कह चुके हैं, लेकिन भज्जी ने अब जाकर ये कदम उठाया। इस बात का इंतजार किया जा रहा था कि भज्जी कब क्रिकेट से संन्यास लेंगे और अब 41 वर्ष की उम्र में उन्होंने इसका एलान कर दिया। शुक्रवार को सोशल मीडिया पर उन्होंने इस बात की जानकारी दी। 

आक्रामकता थी हरभजन सिंह की खास पहचान

क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में टीम इंडिया का प्रतिनिधित्व करने वाले हरभजन सिंह हालांकि राष्ट्रीय टीम से लंबे वक्त से दूर चल रहे थे, लेकिन अब जाकर उन्होंने ये फैसला किया और हर तरह की क्रिकेट से संन्यास की घोषणा कर दी। वैसे जब हमारे जहन में हरभजन सिंह का नाम आता है तो सामने एक ऐसे आक्रामक खिलाड़ी की छवि आती है जो पूरे जोश के साथ टीम के लिए खेलता था और उनका वो अंदाज ही उनकी खास पहचान थी। भज्जी ने भारत के लिए अपना आखिरी टेस्ट और वनडे मैच साल 2015 में खेला था तो वहीं टी20 इंटरनेशनल क्रिकेट में उन्होंने साल 2016 में भारत का प्रतिनिधित्व किया था। 

16 साल तक भज्जी ने किया देश का प्रतिनिधित्व

हरभजन सिंह ने साल 1998 में डेब्यू किया था और साल 2016 में नीले रंग की जर्सी में आखिरी बार नजर आए थे। उन्होंने पूरे 16 साल तक देश के क्रिकेट खेली और दौरान खूब सफल भी रहे। उन्होंने भारतीय टीम के लिए 103 टेस्ट मैच, 236 वनडे मैच और 28 टी20 इंटरनेशनल मैच खेले थे। टेस्ट क्रिकेट में उन्होंने 417 विकेट लिए थे जबकि वनडे में उनके नाम पर 269 विकेट दर्ज हैं तो वहीं टी20 इंटरनेशनल मैचों में वो 25 विकेट लेने में सफल रहे थे। 

हरभजन सिंह का आइपीेएल करियर

हरभजन सिंह ने साल 2008 से ही आइपीएल में खेलना शुरू किया था और उन्होंने कुल 163 मैच इस लीग में खेले थे। इन मैचों में उनके नाम पर कुल 150 विकेट दर्ज हैं। साल 2020 में उन्होंने आइपीएल में खेलने से मना कर दिया था तो वहीं साल 2021 में उन्हें केकेआर ने अपनी टीम में शामिल किया था और उन्हें सिर्फ 3 मैच खेलने का मौका मिला था जिसमें उन्हें एक भी विकेट नहीं मिला था। भज्जी ने आइपीएल में मुंबई इंडियंस की कप्तानी भी की थी। भज्जी की कप्तानी में मुंबई की टीम ने साल 2011 में चैंपियंस लीग 20-20 का खिताब भी जीता था। 

भज्जी का फिल्मी करियर

हरभजन सिंह ने 'मुझसे शादी करोगे' और 'सेकेंड हैंड हसबेंड' जैसी हिन्दी फिल्मों में तो वहीं पंजाबी फिल्म 'भज्जी इन प्राब्लम' में भी काम किया था। इसके अलावा उन्होंने कुछ तमिल फिल्मों में भी एक्टिंग की थी।