पंजाब प्रचार कमेटी की बैठक में सांसदों ने उठाए सवाल, सोनिया गांधी ने आज मीटिंग के लिए बुलाया

 

पंजाब कांग्रेस प्रचार कमेटी की बैठक के लिए पहुंचे नेता। फोटो- हरीश चौधरी के ट्विटर अकाउंट से
पंजाब कांग्रेस की प्रचार कमेटी की बैठक नई दिल्ली में हुई। इस दौरान सांसदों ने पंजाब मेंं पार्टी नेताओं की खींचतान पर जमकर तंज कसा। कहा कि कैंपेन बाद मे हो पहले सभी नेता एकजुटता दिखाएं।

राज्य ब्यूरो, चंडीगढ़। पिछले पांच साल की कारगुजारी को लेकर जनता के बीच जाने की तैयारी कर रही कांग्रेस की प्रचार कमेटी में सांसदों और राज्यसभा सदस्यों ने कहा, पंजाब में कांग्रेस का इस समय तमाशा बना हुआ है। कैंपेन करने की बात तो बाद में आएगी। पहले पार्टी के सभी नेता इकट्ठे हों। यह बातें गत दिवस नई दिल्ली में पंजाब कैंपेन कमेटी की मीटिंग के दौरान सांसदों व राज्यसभा सदस्यों ने कमेटी के चेयरमैन सुनील जाखड़ और पार्टी के पंजाब मामलों के प्रभारी हरीश चौधरी की अगुवाई में हुई बैठक में रखी गईं। इस पार्टी प्रेसीडेंट सोनिया गांधी ने राज्य के सभी कांग्रेस सांसदों को बैठक के लिए बुलाया है।कंपेन कमेटी की बैठक में सांसद इस बात से नाराज थे कि पंजाब में मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी और प्रदेश पार्टी के प्रधान नवजोत सिद्धू ही एक मंच पर नहीं हैं। सरकार के फैसलों पर अगले ही दिन पार्टी प्रधान पानी फेर देते हैं। एक नेता ने तो यहां तक कहा कि पार्टी का तमाशा बना हुआ है। क्या इस माहौल में हम कैंपेन करना चाहते हैं। कैंपेन करने से पहले सभी नेताओं को एकजुट होना होगा, नहीं तो पार्टी की हालत बहुत बुरी होगी।

एक सांसद ने कहा कि यहां तो हर कोई अपने अपने तरीके से टिकटें बांट रहा है, जबकि स्क्रीनिंग कमेटी ने अभी तक आए आवेदनों पर गौर करना भी शुरू नहीं किया है। उन्होंने कहा कि लोग हमारी इन बातों का मजाक उड़ा रहे हैं। इसी बीच, राज्य सभा सदस्य शमशेर सिंह दूलाे ने कहा कि इस तरह बैठकों का कोई फायदा नहीं। पहले हमें लोगों को विश्वास जीतना होगा। सभी अपने अपने उम्मीदवार घोषित कर रहे हैं क्या यह कांग्रेस का सिस्टम है। हर पार्टी का टिकट बांटने का एक सिस्टम होता है।

प्रचार कमेटी के चेयरमैन सुनील जाखड़ ने पंजाब के सांसदों और राज्यसभा के सदस्यों के साथ बैठक करते हुए उनसे प्रचार के लिए सुझाव मांगे। साथ ही उन्होंने कहा कि 2017 में लोगों ने हमें पांच साल का मैनडेट दिया था । हमारी सरकार ने काफी काम किया है। हम इसे लोगों में लेकर जाएंगे और जो कमियां रह गई हैं उसे पूरा करने के लिए क्या रोडमैप होगा इसे जनता के सामने रखा जाएगा। कमेटी की मीटिंग में पार्टी प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू हाजिर नहीं थे। उनकी जगह शिक्षा मंत्री और पार्टी के महासचिव संगठन परगट सिंह आए हुए थे। इसी तरह मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी भी हाजिर नहीं हुए।

बताया जाता है कि चन्नी ने अपनी आज गिदड़बाहा में रैली होने की बात कहकर मीटिंग में न आने की बात कही। कैंपेन कमेटी की बैठक में सुनील जाखड़ के अलावा हरीश चौधरी, कृष्णा अल्लावुरू, चेतन चौहान, गुरकीरत सिंह कोटली, रमिंदर आमला, परगट सिंह, गुरजीत औजला, जसबीर सिंह डिंपा, मनीष तिवारी, रवनीत सिंह बिट्टू, डा. अमर सिंह, शमशेर सिंह दूलो, अमरप्रीत सिंह लाली उपस्थित थे।