कद छोटा पर बोल बड़े हैं इनके, अखिलेश और मुलायम सिंह कर चुके हैं काम की तारीफ, कर रहे चुनाव में उतरने की तैयारी

 


सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव के साथ बरेली के सपा नेता प्रमोद यादव। फाइल फोटो
 उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव का टिकट पाने के लिए दावेदार अपनी जीत के लंबे-लंबे दावे कर रहे हैं। दावेदारों ने अपने टिकट मिलने से पहले ही अपने क्षेत्र में प्रचार-प्रसार भी शुरू कर दिया है।

बरेली : उत्तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव का टिकट पाने के लिए दावेदार अपनी जीत के लंबे-लंबे दावे कर रहे हैं। दावेदारों ने अपने टिकट मिलने से पहले ही अपने क्षेत्र में प्रचार-प्रसार भी शुरू कर दिया है। लोगों के बीच में जाकर अपनी जीत का भरोसा दिला रहेे हैंं। इन सबके बीच बरेली में एक अनोखा नेता भी सामने आया है जो अपने प्रचार में जी जान से जुटे हैं। इनकी अनोखी बात इनका कद है जो बमुश्किल तीन फीट होगा। ये छोटे कद के नेताजी बरेली में मतदाताओं के आकर्षण का केंद्र बने हुए हैं।

ये नेताजी है बरेली के प्रमोद यादव , जो समाजवादी पार्टी से हैंं और महानगर उपाध्यक्ष के पद की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं। इन्होंने बरेली की बिथरी चैनपुर विधानसभा सीट से टिकट मांगा है। टिकट अभी फाइनल नहीं हुआ है लेकिन, इन्होंने मतदाताओं के बीच जाना शुरू कर दिया है। छोटा कद होने के बाद भी इनके हौसले बुलंद हैं। जब किसी जनसभा में जाते हैं तो इनको मंच पर चढ़ाना पड़ता है लेकिन जब ये अपनी बात रखना शुरू करते हैं तो बड़े-बड़े नेताओं के छक्के छुड़ा देते हैं। प्रमोद यादव 47 साल हैं लेकिन, उनको देखकर हर कोई बच्चा समझने की भूल कर बैठता है। कद छोटा है लेकिन उनके इरादे बुलंद हैं।

सपा प्रमुख मुलायम से प्रभावित होकर बने सपाईः प्रमोद यादव क्षेत्र में जब निकलते हैं तो उनको देखने के लिए लोग लोगों की भीड़ लग जाती है। प्रमोद बताते हैं कि वर्ष 2003 में सपा प्रमुख मुलायम सिंह यादव बरेली आए थे। तब उन्होंने मुलायम से कहा था कि वह पार्टी की सेवा करना चाहते हैं। इसके बाद मुलायम सिंह की सहमति मिलने पर उन्‍होंने पार्टी ज्‍वाइन कर ली थी। बाद में प्रचार की जिम्मेदारी मिली। काफी दिन तक पार्टी के कार्यक्रमों में हिस्सा लेता रहा। इसके बाद सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव से मुलाकात हुई तो वो मेरे काम से काफी खुश हुए।

कानून की पढ़ाई कर चुके हैं प्रमोदः उन्‍होंने बताया कि पार्टी के कार्यक्रम में हिस्‍सा लेने के साथ ही वह एडवोकेट भी हैं। ऐसे में मेरे काम से खुश होकर पार्टी ने मुझे उपभोक्ता महासभा का अध्यक्ष बना दिया। प्रमोद ने बताया कि शुरू से ही नेता बनने की चाह थी। पहले हाईस्कूल और इंटर तक की पढ़ाई बरेली के गवर्नमेंट इंटर कॉलेज से की। इसके बाद बरेली कालेज से एमए और एलएलबी करने के बाद एडवोकेट बन गए।